Breaking News






Home / Breaking News / वीरभद्र सिंह: सचिवालय में श्रद्धांजलि देने को चार घंटे बाद मंजूरी मिलने से उखड़ा कर्मचारी संघ

वीरभद्र सिंह: सचिवालय में श्रद्धांजलि देने को चार घंटे बाद मंजूरी मिलने से उखड़ा कर्मचारी संघ

(रफ़्तार न्यूज़ ब्यूरो) : पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को वीरवार दोपहर बाद सचिवालय परिसर में भी श्रद्धांजलि दी गई। सचिवालय कर्मचारी संघ ने पार्किंग में श्रद्धांजलि कार्यक्रम का आयोजन किया। संघ के अध्यक्ष संजीव शर्मा ने कार्यक्रम के लिए मंजूरी लेने के लिए चार घंटे का समय लगने पर रोष जताया। कहा कि वीरभद्र सिंह छह बार मुख्यमंत्री रहे हैं। उन्होंने अपने जीवन का बहुत समय सचिवालय में बिताया। ऐसे में वे सचिवालय परिवार के सदस्य हैं।

सचिवालय के ऊंचे भवनों की नीवं भी उन्होंने रखी। आज उन्हें श्रद्धांजलि देने के कार्यक्रम को मंजूरी मिलने में चार घंटे का समय लगना दुखद है। कहा कि सचिवालय कर्मचारियों के लिए मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के कार्यालय का दरवाजा हर वक्त खुला रहता था। एक बार जब संघ का प्रतिनिधिमंडल उनसे मिलने गया तो प्रधान निजी सचिव सुभाष आहलुवालिया ने कहा कि मुख्यमंत्री व्यस्त हैं। जब वीरभद्र सिंह को संदेश दिया गया कि संघ के पदाधिकारी मिलने आए हैं तो उन्होंने एकाएक सभी को अंदर बुलाया। संजीव शर्मा ने बताया कि तत्कालीन मुख्यमंत्री ने तब कहा था कि सचिवालय के असली मालिक तो आप लोग हैं। नेता तो पांच-पांच साल के लिए आते-जाते रहते हैं। उन्होंने कहा था कि मेरे कार्यालय में आने के लिए आप लोगों को किसी से भी अनुमति लेने की जरूरत नहीं है। कहा कि सचिवालय में अवर सचिव, अतिरिक्त सचिव नियुक्त करने का श्रेय पूर्व मुख्यमंत्री को जाता है।

संजीव शर्मा ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, मुख्य सचिव और सचिवालय प्रशासन का श्रद्धांजलि कार्यक्रम आयोजित करने के लिए मंजूरी देने पर आभार भी जताया। उधर, पार्किंग में सैकड़ों कर्मचारियों और अधिकारियों ने नम आंखों से पूर्व मुख्यमंत्री को अंतिम विदाई देते हुए उनके अस्थि कलश को पुष्पांजलि अर्पित की। इस दौरान कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर सहित कई कांग्रेस नेता भी मौजूद रहे।

 

About admin

Check Also

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की हुई साप्ताहिक बैठक

गुरसराय, झाँसी(डॉ पुष्पेंद्र सिंह चौहान)-अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की नगर इकाई गुरसरांय की पहली साप्ताहिक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share