Breaking News






Home / Breaking News / राजस्थान में हल्दीघाटी के युद्ध का मैदान फिर चर्चा में, जानिए क्या है नया विवाद

राजस्थान में हल्दीघाटी के युद्ध का मैदान फिर चर्चा में, जानिए क्या है नया विवाद

जयपुर (रफ़्तार न्यूज़ ब्यूरो) : महाराणा प्रताप और अकबर के बीच हल्दीघाटी के युद्ध का परिणाम पाठ्य पुस्तकों में बदलने पर विवाद के बाद एक बार फिर हल्दीघाटी का युद्ध का मैदान चर्चा में है. अब हल्दीघाटी के युद्ध क्षेत्र से वे शिलापट्ट भी हटाए जाएंगे जिन पर महाराणा प्रताप के युद्ध में पीछे हटने का जिक्र है. ये भी मांग की जा रही है कि नई पट्टिका लगाएं जिस पर प्रताप के विजेता होने का जिक्र हो. हल्दीघाटी युद्ध के मैदान में एक जगह है रक्त तलाई. ये वो क्षेत्र है जहां लगे शिलालेख के मुताबिक 21 जून को महाराणा प्रताप का अगुवाई में मेवाड़ की सेना और मान सिहं की अगुवाई में मुगल सेना आपस में भिड़ीं, जहां पर इतनी लाशें बिछी कि खून की नदी बही और तालाब लाल हो गया, इस वजह से इसको रक्त तलाई कहते हैं. लेकिन विवाद खड़़ा हुआ शिलापट्ट पर ये लिखा होना कि प्रताप की सेना को पीछा हटना पड़ा और युद्ध उसी दिन खत्म हो गया. इतिहासकार चंद्रशेखर शर्मा के दस्तावेज के आधार पर पहले पाठ्यक्रम में प्रताप को विजेता घोषित किया था और शर्मा ने इस शिलालेख पर आपत्ति की तो बदलने का फैसला हो गया. शर्मा का कहना है कि प्रताप न पीछे हटे, न हारे लेकिन इस शिलालेख से ये संदेश जा रहा है कि प्रताप युद्ध हार गए थे.

राजसमंद से बीजेपी सासंद दीयाकुमारी ने भी 25 जून को केंद्रीय कला एंव संस्कृति मंत्री को पत्र लिखकर हल्दीघाटी युद्ध क्षेत्र में ऐसे शिलालेख पर आपत्ति जताई थी और उन्हें हटाने की मांग की थी. दीयाकमारी का कहना है कि केद्र सरकार ने मांग मान ली और अब ऐसे शिलालेख हल्दीघाटी क्षेत्र से हटेंगे और नए शिलालेख लगेंगे. दीयाकुमारी ने रक्त तलाई के शिलालेख हटाने के साथ ही युद्ध क्षेत्र में जहां अकबर की सेना ने पड़ाव डाला और उस जगह का नाम बादशाही बाग रखा गया, उसे भी बदलने की मांग की.

बीजेपी और मेवाड़ के कई संगठन प्रताप को विजेता मानते हैं, इसलिए युद्ध के मैदान में भी जगह-जगह उन सभी प्रतीक और शिलालेखों को हटाने के लिए काफी समय से अभियान चला रहे हैं जहां पर महाराणा प्रताप की हार या सेना के पीछे हटने का जिक्र है. राजूपत कऱणी सेना अध्यक्ष महिपाल मकराना का कहना है कि हमने ही मांग कर रहे थे कि ये पट्टिका गलत है, जिस पर लिखा है कि प्रताप की सेना पराजित हुई जबकि हकीकत ये कि अकबर को सेना को छह किलोमीटर पीछे जाना पड़ा. प्रताप जीते थे. अब केंद्र सरकार ने मांग मान ली लेकिन अब जल्द ही इसे हटाएं.

तीन साल पहले राजस्थान में बीजेपी की सरकार ने इतिहासकार चंद्रशेखर शर्मा के शोध के आधार पर पाठ्य पुस्तकों में हल्दीघाटी के युद्ध में महाराणा प्रताप को विजेता घोषित किया था. उससे पहले पुस्तकों में या तो प्रताप की हार बताई या युद्ध को अनिर्णित बताया था लेकिन शर्मा ने अपने शोध के आधार पर दावा किया था कि हल्दीघाटी युद्ध क्षेत्र के आसपास के गांवों में युद्ध के बाद महाराणा प्रताप की मुहर वाले पट्टे थे औऱ भी कई सबूत रखे थे. और दावा किया इन सबूतों से साफ है कि प्रताप का अधिकार युद्ध के बाद भी इस क्षेत्र पर था. यानी प्रताप ही जीते थे.

About admin

Check Also

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की हुई साप्ताहिक बैठक

गुरसराय, झाँसी(डॉ पुष्पेंद्र सिंह चौहान)-अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की नगर इकाई गुरसरांय की पहली साप्ताहिक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share