Breaking News






Home / Breaking News / पंजाब के 35000 निर्दोष हिंदुओं को खालिस्तानी आतंकवादियों ने हत्याएं कर शहीद कर दिया : पवन गुप्ता

पंजाब के 35000 निर्दोष हिंदुओं को खालिस्तानी आतंकवादियों ने हत्याएं कर शहीद कर दिया : पवन गुप्ता

पटियाला  (रफ़्तार न्यूज़ ब्यूरो) :  शिव सेना हिंदुस्तान के आह्वान पर आज पंजाब में हर जिले में पार्टी द्वारा विशेष हवन यज्ञ का आयोजन करके 6 जून 1984 के ब्लू स्टार ऑपरेशन के दौरान खालिस्तानी आतंकवादियों के खिलाफ संघर्ष करते हुए देश की एकता अखंडता की रक्षा करते हुए अपनी जान कुर्बान करने वाले भारतीय सुरक्षा बलों के जवानों एवं ऑफिसरो को और निर्दोष 35000 पंजाब के हिंदुओं को जिन्हें खालिस्तानी आतंकवादियों ने हत्याएं कर शहीद कर दिया था उन्हें श्रद्धांजलि दी गई
आज पटियाला में श्री काली माता मंदिर में विशेष हवन यज्ञ का आयोजन किया गया जिसका नेतृत्व शिव सेना हिंदुस्तान के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री पवन गुप्ता जी ने किया। इस हवन यज्ञ में श्री शमाकांत पांडे उप प्रधान पंजाब, श्री केके गाबा जिला प्रधान हिंदुस्तान व्यापार सेना पटियाला, श्री पंकज गौड़ जिला प्रधान हिंदुस्तान अधिवक्ता सेना पटियाला, श्री जगदीश राय का पंजाब चेयरमैन श्री राम हनुमान सेवादल, श्री मनोज कर्ण वरिष्ठ नेता शिव सेना हिंदुस्तान त्रिपुरी, पटियाला इत्यादि नेता एवं कार्यकर्ता हाजिर थे। करोना काल के कारण इस श्रद्धांजलि समागम को बहुत ही छोटे रूप में किया गया था।
हवन यज्ञ को शिव सेना हिंदुस्तान के धार्मिक शाखा श्री सनातन धर्म प्रचार सेना के जिला प्रमुख पंडित बद्री प्रसाद जी ने विधि विधान से संपन्न कराया। विशेष हवन यज्ञ के बाद श्रद्धांजलि देते हुए श्री पवन गुप्ता जी राष्ट्रीय प्रमुख शिवसेना हिंदुस्तान हिंदुस्तान शक्ति सेना ने कहा कि यह धार्मिक कार्यक्रम किसी विशेष धर्म या धार्मिक स्थान के खिलाफ नहीं है बल्कि यह कार्यक्रम उन शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए किया गया है जो देश की एकता अखंडता की राखी करते हुए अपनी जाने कुर्बान कर गए उन सुरक्षाबलों के जवानों और विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं के शहादत को श्रद्धांजलि देना है जो खालिस्तानी आतंकवादियों के खिलाफ बिना किसी भय के लड़ते रहे।
शिव सेना हिंदुस्तान इस बात की कड़ी निंदा करता है आज पंजाब में खालिस्तानी आतंकवादी समर्थक अपना कोई भी कार्यक्रम बिना किसी डर भय के कर सकते हैं परंतु कोई भी देश भगत संगठन किसी भी देश भगत शहीद को यहां सुरक्षा बलों के उन जवानों को जो देश की एकता अखंडता के लिए लड़ते हुए अपनी शहादत दे गए। उन्हें धार्मिक ढंग से हिंदू मंदिर में जाकर कार्यक्रम कर कोई श्रद्धांजलि नहीं दे सकता। आज पंजाब पुलिस ने विभिन्न जिलों में हिंदू संगठनों के नेताओं और कार्यकर्ताओं को घरों में नजर बंद करके हवन यज्ञ करने और श्रद्धांजलि देने से मना कर दिया। जबकि दूसरी ओर खालसा दल के लोगों ने लॉक डाउन होने के बावजूद 5 जून को अमृतसर की सड़कों पर सरेआम जुलूस निकालकर खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए और पंजाब पुलिस मूक दर्शक बनकर देखते रही। शिव सेना हिंदुस्तान यह जानना चाहती है कि पंजाब में इस प्रकार से प्रतिबंध किसके कहने से लगाया गया, क्योंकि कांग्रेस ने भी खालीस्थान के खिलाफ काफी संघर्ष किया है और खालिस्तानी आतंकवादियों के गोलियों का शिकार देश के पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी, पंजाब के भूतपूर्व मुख्यमंत्री सरदार बेअंत सिंह तथा बहुत सारे कांग्रेसी नेता हुए हैं। इसलिए शिव सेना हिंदुस्तान यह समझती है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह बतौर मुख्यमंत्री ऐसा फरमान जारी नहीं कर सकते । शिव सेना हिंदुस्तान मुख्यमंत्री पंजाब सरकार से मांग करना चाहती है कि पंजाब पुलिस ने हिंदू संगठनों के नेताओं विशेषकर शिव सेना हिंदुस्तान के नेताओं को मोगा, अमृतसर, लुधियाना, गुरदासपुर, में घर में नजरबंद करने का कार्य क्यों किया? क्या देश के सुरक्षा बलों के जवानों को उनके किए हुए कारनामों के कारण या उनकी शहादत को श्रद्धांजलि देना पंजाब में जुर्म है और दूसरी तरफ खालिस्तान समर्थकों द्वारा सरेआम जुलूस निकालकर खाली स्थान के पक्ष में नारे लगाना, देश विरोधी नारे लगाना जायज है ?पंजाब के मुख्यमंत्री जी को ऐसे फरमान जारी करने वाले पुलिस अफसरों की पहचान कर सख्त कार्रवाई करनी चाहिए। क्योंकि ऐसे फरमान कि 6 जून को हिंदू संगठनों के नेता मंदिर में हवन नहीं करेंगे ऐसा तो अकाली दल जैसी पंथक सरकार  जब पंजाब में सरकार थी तब भी नहीं किया गया तो अब इस चुनावी वर्ष में ऐसा फैसला किस अथॉरिटी के कहने से लिया गया है। क्योंकि पंजाब के हिंदुओं में इस फैसले के खिलाफ काफी नाराजगी और गुस्सा पैदा हो गया है।

About admin

Check Also

नवजोत सिद्धू बने पंजाब कांग्रेस के नये प्रधान, 4 कार्यकारी प्रधान होंगे, रफतार न्यूज की ख़बर पर एक बार फिर से मोहर

दिल्ली, 18 जुलाई (रफतार न्यूज ब्यूरो)ः रफतार न्यूज की ख़बर पर एक बार फिर से …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share