Breaking News








Home / देश / आम लोगों का न्याय व्यवस्था से उठता विश्वास , पर कार्यवाही की मांग

आम लोगों का न्याय व्यवस्था से उठता विश्वास , पर कार्यवाही की मांग

छिंदवाड़ा( भगवानदीन साहू)- कई धार्मिक एवं सामाजिक संगठनों ने आज महामहिम राष्ट्रपति और सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के नाम ज्ञापन सौंपकर न्याय व्यवस्था पर से आम लोगों का उठ रहा विश्वास पर कार्यवाही की मांग की। ज्ञापन में बताया कि 21 मई 2021 न्यायपालिका के लिये पूरे देश में चर्चा का विषय रहा । इस दिन बालात्कर के आरोपी पत्रकार तरुण तेजपाल बरी हुए , बाबा राम रहीम को पैरोल मिली , पूर्व प्रधानमंत्री स्व. राजीव गांधी जी के हत्यारे को पैरोल ,खालिस्तान समर्थक हरनेक सिंह को भी पैरोल मिली। वहीं निर्दोष लोकहितैषी सन्त श्री आशारामजी बापू को उचित इलाज हेतु अंतरिम जमानत भी नहीं मिली!! आशारामजी बापू के वकील ने उच्च न्यायालय को बताया कि बापूजी गंभीर बीमारी से पीड़ित है। उनका गलत इलाज किया जा रहा है । कभी भी , कुछ भी , कोई भी अनहोनी से इनकार नही किया जा सकता । उनके खिलाफ ना कोई गवाह है ना सबूत । उनके प्रकरण में जोधपुर पुलिस 5 लोगों को आरोपी बनाई थी । जिसमे से शिवा और प्रकाश को निचली अदालत बरी कर चुकी है। शरदचन्द्र पौटाला और शिल्पी गुप्ता को जमानत मिल चुकी है। शिवा और प्रकाश पर लड़की को अंदर कुटिया में भेजने का आरोप था। पर निचली अदालत ने माना कि शिवा और प्रकाश वहाँ थे ही नही । निचली अदालत का यह आदेश इस फर्जी पकरण की पूरी पोल खोलता है । बापूजी के केस से जुड़े दस्तावेज जिसमें आरोप लगाने वाली लड़की का वास्तविक जन्म प्रमाण पत्र , कॉल डिटेल , मेडिकल रिपोर्ट जिसमे बलात्कर की पुष्टि नही हुई है , देश के गली गली चौराहा पर 10-10 रुपये में बिके हैं । वकील ने भीमा कोरेगांव केस का भी जिक्र किया जिसमें वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या की साजिश रचने वाले को मुंबई उच्च न्यायालय ने स्वास्थ्य के कारणों के कारण जमानत दी । सफूरा जगार; जिसने दिल्ली दंगे में कई माताओ का सुहाग उजाड़ दिया, कई बच्चे अनाथ हो गये, कई लोगो का जीवन बर्बाद हो गया; उसको भी जमानत दे दी। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के हत्यारे को पैरोल ,वर्तमान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की हत्या की साजिश रचने वाले को भी जमानत ! वहीं 100 करोड़ हिन्दुओ की आस्था का केंद्र निर्दोष संत के साथ ही ऐसा अन्याय क्यों?? इस प्रकार की घटना से आम लोगों का विश्वास न्यायव्यवस्था से उठ रहा है। देश की न्याय व्यवस्था आतंकवादियों , हत्यारों और देश विरोधी गतिविधियों में संलग्न लोगों का बचाव करती है।
इस विषय में आवश्यक कार्यवाही करने की प्रार्थना की है । ज्ञापन देते समय आधुनिक चिंतक हरशुल रघुवंशी , शिक्षाविद विशाल चवुत्रे , कुनबी समाज के नेता अंकित ठाकरे , राष्ट्रीय बजरंग दल से नितेश साहू , गायत्री परिवार से ओमप्रकाश साहू , पवार समाज के प्रमुख , हेमराज पटले , कलार समाज के सूजीत सूर्यवंशी , युवा सेवा संघ के सोमनाथ पवार , नितिन दोईफ़ोड़े , आई. टी. सेल प्रभारी भूपेश पहाड़े , अखिल भारतीय नारी रक्षा मंच से साध्वी रेखा बहन , साध्वी प्रतिमा बहन , दर्शना खट्टर , छाया सूर्यवंसी , करुणेश पाल , शकुंतला कराडे , डॉ. मीरा पराड़कर , योगिता पराड़कर , सुमन दोईफोड़े , आदि मुख्य रूप से उपस्थित थे।

 

About Sushil Parihar

Check Also

मिलखा सिंह का अंतिम संस्कार ; पंजाब के राज्यपाल वी.पी. सिंह बदनौर और केंद्रीय खेल राज्य मंत्री किरेन रिजीजू भी हुए शामिल

  चंडीगढ़, 19 जून (पीतांबर शर्मा) : पंजाब के राज्यपाल और यू.टी. चण्डीगढ़ के प्रशासक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share