Breaking News








Home / Breaking News / मुख्य सचिव ने माहिरों और अन्य हिस्सेदारों को उत्साहित करने के लिए लगातार मीटिंगों में की शिरकत

मुख्य सचिव ने माहिरों और अन्य हिस्सेदारों को उत्साहित करने के लिए लगातार मीटिंगों में की शिरकत

चंडीगढ़, 18 मई (रफतार न्यूज ब्यूरो):  पंजाब में कोविड मरीज़ों की देखभाल और सुझाव देने के लिए बनाए गए माहिरों के समूह ने अपना एक वर्ष से भी अधिक का समय पूरा कर लिया है। यह समूह पंजाब सरकार के स्वास्थ्य और चिकित्सा शिक्षा सलाहकार डॉ. के.के. तलवार के नेतृत्व में अप्रैल 2020 में बनाया गया था।
पंजाब की मुख्य सचिव श्रीमती विनी महाजन ने अपनी किस्म के इस विलक्षण ग्रुप की मीटिंगों में लगातार शिरकत की ताकि कोरोना जैसे बेहद ख़तरनाक वायरस के विरुद्ध आधुनिक साधनों जैसे कि दवाएँ और चिकित्सा अभ्यासों बारे सरकारी और प्राईवेट अस्पतालों में इलाज करने वाले डॉक्टरों को अवगत करवाने के लिए इस विशेष मुहिम के तौर पर माहिरों और भागीदारों को उत्साहित किया जा सके।
यह समूह नियमित तौर पर हर मंगलवार, गुरूवार और रविवार शाम 7.30 बजे प्रशिक्षण और विचार-विमर्श संबंधी सैशन करवाता है। अब तक 50 से अधिक सैशन किये जा चुके हैं।
इन सैशनों के दौरान माहिरों द्वारा अमृतसर और पटियाला के जी.एम.सीज़, जी.जी.एस.एम.सी. फरीदकोट, डी.एम.सी. लुधियाना, सी.एम.सी. लुधियाना और निजी अस्पतालों में दर्मियाने से लेकर गंभीर मरीज़ों बारे विचार-विमर्श किया गया और मरीज़ों के स्वास्थ्य में सुधार लाने के लिए विचारों का आदान-प्रदान किया गया।
पी.जी.आई., चण्डीगढ़ के एंथसीज़िया विभाग के डीन और प्रमुख प्रो. जी.डी. पुरी और डॉ. बिशव मोहन, प्रोफ़ैसर, कार्डीयोलॉजी, डीएमसी लुधियाना इस समूह के कनवीनर हैं जबकि अलग-अलग जिलों और अस्पतालों द्वारा पेश किये गए मामलों बारे अमरीका, यूके, पी.जी.आई., एम्ज़ के वक्ताओं ने बातचीत और विचार-विमर्श किये।
एक सरकारी प्रवक्ता ने कहा, “सिर्फ़ मीटिंगें ही नहीं बल्कि एक व्हाट्सऐप ग्रुप के ज़रिये बाकायदा विचारों का आदान-प्रदान किया जाता है। अलग-अलग एमरजैंसी वाले मामलों बारे भी विचार-विमर्श किये जाते हैं।“
मुख्य सचिव के अलावा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के प्रमुख सचिव हुस्न लाल, चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान के प्रमुख सचिव डी.के. तिवारी और नेशनल हैल्थ मीशन पंजाब के मैनेजिंग डायरैक्टर तनु कश्यप भी मीटिंगों में शिरकत करते रहते हैं।
डॉ. विनोद पॉल जैसे प्रसिद्ध माहिरों ने भी इस समूह की मीटिंग में हिस्सा लिया। समूह के एक मैंबर ने कहा, “डॉ. पॉल इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने हिमाचल प्रदेश के डॉक्टरों को भी इसमें शामिल होने का मौका देने के लिए कहा।“ उन्होंने कहा कि इस विलक्षण टेली-मेंटरिंग अभ्यास के लिए इको प्लेटफार्म इस्तेमाल किया गया है।
इस समूह में डॉ. पुरी और डॉ. मोहन के अलावा देश और विदेश के कई माहिर जैसे न्यू यॉर्क से डॉ. अनूप के. सिंह, लंदन से डॉ. अजीत कयाल, न्यू यॉर्क से डॉ. सन्दीप कटारिया, लुधियाना डी.एम.सी. से डॉ. सरजू रहलान, चण्डीगढ़ पी.जी.आई. से डॉ. पंकज मल्होत्रा और डॉ. विकास सूरी, एम्ज़ नयी दिल्ली से डॉ. अम्बुज रॉय और डॉ. नितीश नायक, के.डी.ए.एच मुम्बई से डॉ. तनु सिंघल और चण्डीगढ़ पी.जी.आई. से डॉ. आशीष भल्ला और डॉ. पल्लब रे शामिल हुए।

About admin

Check Also

राष्ट्र सेवा मे निरन्तर कार्य ही वरदान है !

गुरसराय, झाँसी(डॉ पुष्पेंद्र सिंह चौहान)- अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद नगर इकाई गुरसरांय के कार्यकर्ता निरन्तर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share