Wednesday , June 16 2021
Breaking News








Home / हेल्थ / असम के बागानों की चाय से बढ़ेगी इम्यूनिटी, वायरल इंफेक्शन से भी हो सकता है बचाव

असम के बागानों की चाय से बढ़ेगी इम्यूनिटी, वायरल इंफेक्शन से भी हो सकता है बचाव

(रफतार न्यूज ब्यूरो) -कोरोना वायरस  जैसी महामारी ने इस समय देश के करोड़ों लोगों को चिंता में डाल रखा है. कोरोना के बढ़ते मामलों को दखते हुए सरकार ने लोगों से घर से बाहर न निकलने की अपील की है. वहीं डॉक्टरों ने अनिवार्य रूप से मास्क पहनना, हाथों को बार-बार सैनिटाइज करना और सोशल डिस्टेंसिंग को बनाए रखने के लिए कहा है. वहीं संक्रमण से बचने के लिए लोगों को इम्यूनिटी सिस्टम (Immunity System) को स्ट्रॉन्ग बनाने के लिए कहा जा रहा है. इम्यूनिटी बढ़ाने के संबंध में असम के बागानों की चाय (Tea Of Assam) आपकी मदद कर सकती है. असम के बागानों की हरी पत्तियां आपका कुछ हद तक बचाव कर सकती हैं.

भारत में काली चाय का उत्पादन बड़े पैमाने पर होता है. ग्रीन टी में दूध का उपयोग नहीं किया जाता है लेकिन काली चाय में दूध डालकर तैयार किए जाने पर यह हल्के लाल रंग की हो जाती है, इस कारण इसे लाल चाय भी कहते हैं. कई स्टडीज में सामने आया है कि लाल चाय शरीर को सूजन, फ्लू, फेफड़ों और श्वसनतंत्र को वायरस और बैक्टीरिया से बचाती है. दरअसल, असम के चाय बागानों में उत्पन्न होने वाली काली चाय इम्युनिटी बूस्टर के रूप में काम करती है. इस चाय में थिफ्लेविन्स नामक तत्व मौजूद होता है, जो इंफ्लुएंजा और सांस संबंधी रोगों से बचने में शरीर की मदद करता है. असम स्थित चाय अनुसंधान ने भी दावा किया है कि काली पत्तियों से तैयार लाल चाय शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है.

About admin

Check Also

मुख्यमंत्री ने कोविड बन्दिशें 15 जून तक बढ़ाईं परन्तु कल से दर्जावार छूटों के दिए आदेश

दुकानें शाम छह बजे तक खोली जा सकतीं, प्राईवेट दफ्तर 50 प्रतिशत स्टाफ के साथ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share