Breaking News








Home / देश / 44 करोड़ साधकों के सवैधानिक अधिकारों की रक्षा हेतु ज्ञापन

44 करोड़ साधकों के सवैधानिक अधिकारों की रक्षा हेतु ज्ञापन

छिंदवाड़ा(भगवानदीन साहू)-अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य में अखिल भारतीय नारी रक्षा मंच के तत्वाधान में 650 जिला केन्द्रों पर विशाल रैली निकालकर मुख्य न्यायधीश सुप्रीम कोर्ट , महामहिम राष्ट्रपति , प्रधानमंत्री जी एवं संयुक्त राष्ट्र संघ के नाम जिला कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर संत श्री आशारामजी बापू को जेल से शीघ्र रिहाई की मांग की। ज्ञापन में बताया कि संत हमारी संस्कृति की पहचान हैं । उन्हें बिना किसी सबूत के जेल में रखकर यातनायें दी जा रही हैं । माननीय सुप्रीम कोर्ट ने कुछ दिन पूर्व आदेशित किया था , कि 70 वर्ष के अधिक आयु वाले जो देश की जेलों में बंद है ; उन्हें शीघ्र रिहा करें , जमानत दे या पेरोल दे पर आपके इस आदेश को कई राज्य सरकारों एवं निचली अदालत ने गंभीरता से नहीं लिया। पूज्य बापू जी की उम्र 86 वर्ष है एवं गंभीर बिमारी से पीड़ित हैं । पूज्य बापू जी के प्रकरण के कारण पूरे विश्व में न्यायपालिका की बदनामी हो रही है। दिल्ली के ईमाम बुखारी के खिलाफ 67 गैर जमानती वारट हैं , लेकिन आज तक इन्हें गिरफ्तार नहीं किया गया । आतंकवादी के लिए रात में भी कोर्ट खुल जाती है! कई पादरियों पर यौन शोषण के आरोप लगे लेकिन न्यापालिका से उन्हें शीघ्र जमानत दे दी जाती है । आपकी सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत्त मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई पर भी यौन शोषण का आरोप लगा । लेकिन आप लोगों ने कमेटी बनाकर मामला रफा-दफा कर दिया । इन सब बातों से प्रतीत होता है कि देश की न्याय व्यवस्था सन्तों या हिन्दू धर्मावलंबी के साथ दुराग्रह रखती है । आप सब इतिहास के जानकार हैं । संतो पर अत्याचार होता है तो प्रकृति अपना रौद्र रूप दिखाती हैं । कोविड -19 के माध्यम से प्रकृति ने समस्त मानव समाज को समझाने का प्रयास किया । मिडिया रिपोर्ट के अनुसार पूज्य बापूजी के 11 करोड़ शिष्य हैं । सभी शिष्यों की माता , बहन एवं पत्नी होना स्वाभाविक हैं । गुणा भाग करे तो 44 करोड़ लोगों की आस्था का हनन किया जा रहा है।उनके धार्मिक एवं संवैधानिक अधिकारों के खिलाफ षड़यंत्र पूर्वक कार्यवाही की जा रही है। देशभर की करोड़ों – करोड़ों महिलाओं की विश्व महिला दिवस पर प्रार्थना है कि , संत श्री आशारामजी बापू को शीघ्र रिहा किया जाये । ज्ञापन देते समय साध्वी रेखा बहन , साध्वी प्रतिमा बहन , दर्शना खट्टर , महिला उत्थान मंडल से सुमन दोईफोड़े , विमल शेरके , छाया सूर्यवंशी , करुणेश पाल , शकुंतला कराडे , योगिता पराड़कर , डॉ. मीरा पराड़कर , वनिता सनोडिया , निर्मला पटेल, राखी भोजवानी आदि महिलायें मुख्य रूप से उपस्थित थीं।

About Sushil Parihar

Check Also

Haryana News: महिला की बेरहमी से हत्या, झज्जर में मिला कटा हुआ सिर, रोहतक में धड़

रोहतक (रफतार न्यूज ब्यूरो)ः हरियाणा के रोहतक जिले के चुलियाना गांव के पास एक दिल दहला …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share