Breaking News






Home / देश / हिन्दू अफगानिस्तान से लेकर बर्मा तक फैला हुआ था तो क्या सिक्खों ने सभी हिन्दुओं की रक्षा की थी : पूज्य सन्त नारायण दास

हिन्दू अफगानिस्तान से लेकर बर्मा तक फैला हुआ था तो क्या सिक्खों ने सभी हिन्दुओं की रक्षा की थी : पूज्य सन्त नारायण दास

  •  क्या सन्त जी ने 200 वर्ष पुरानी गलतफहमी समाप्त कर दी है”
    सन्त नारायण दास जी का कहना है कि हम सब लोग जन्म से सुनते आ रहे हैं कि सिखों ने हिन्दू धर्म की रक्षा की थी, जब भी गुरु तेग बहादुर का शहीदी दिवस आता है, जब भी साहिबज़ादों के शहीदी दिहाड़े आते हैं तब गुरुद्वारे में कथाकार बोलते हैं कि अगर सिख ना होते तो एक भी हिन्दू नहीं होता, सारे हिन्दू समाप्त हो जाते और कहीं पे भी कोई मन्दिर दिखाई नहीं देता।
    परन्तु पूज्य सन्त नारायण दास जी ने बातों को गलत बताया, उन्होंने कहा है कि उस समय सिख केवल 300 km के दायरे में थे जबकि हिन्दू उस समय अफगानिस्तान से लेकर बर्मा तक फैला हुआ था, हिन्दू तो वहाँ भी था जहाँ सीखों का नामो निशान नहीं था।
  • सन्त नारायण दास जी का कहना है कि सिख कहते हैं कि हम न होते तो हिन्दू भी न होते तो वो ये बताएं कि दक्षिण भारत की किसी भी स्टेट में सिख नही थे परन्तु हिन्दू वहाँ थे, उनको किसने बचाया है ?
    पूरबी भारत की किसी भी स्टेट में सिख नहीं थे परन्तु हिन्दू वहाँ थे, उनको किसने बचाया  ?
    ऐसे ही मध्य भारत और पश्चिम भारत मे भी सिखों का नामो-निशान नहीं था और हिन्दू उस समय वहां रहते थे, उनको किसने बचाया है ?
    सन्त जी ने कहा कि सिखों के गुरुओं ने जितनी भी लड़ाई लड़ी है वो सब 300 किलोमीटर के दायरे के अंदर लड़ी है जबकि हिन्दू उस समय हजारों किलोमीटर के दायरे में रहते थे।
    सन्त जी ने कहा कि अगर पंजाब की जगह पे राजपूत रह रहे होते यां फिर मराठा रहते होते तो कोई भी विदेशी दिल्ली तक पहुंच नहीं पाता। उन्होंने कहा कि हमारे देश और धर्म की रक्षा तो राजपूतों ने की है,  मराठों ने की है।
    सन्त जी ने कईं भारत के अनेक राजाओं के नाम बताए जिन्होंने भारत और सनातन धर्म की रक्षा की है।

About admin

Check Also

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की हुई साप्ताहिक बैठक

गुरसराय, झाँसी(डॉ पुष्पेंद्र सिंह चौहान)-अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की नगर इकाई गुरसरांय की पहली साप्ताहिक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share