Wednesday , June 16 2021
Breaking News








Home / देश / क्रिसमस एवं नये वर्ष पर फटाखे पर पूर्ण प्रतिबंद की मांग ज्ञापन

क्रिसमस एवं नये वर्ष पर फटाखे पर पूर्ण प्रतिबंद की मांग ज्ञापन

 

छिन्दवाड़ा(भगवानदीन साहू) – सामाजिक कार्यकर्ता भगवानदीन साहू के नेतृत्व में अन्य धार्मिक एवं सामाजिक संगठनों ने महासचिव संयुक्त राष्ट्र संघ न्यूयार्क अमेरिका के नाम जिला कलेक्टर छिन्दवाड़ा को ज्ञापन सौपकर क्रिसमस एवं नये वर्ष पर फटाखे पूर्णप्रतिबंध की मांग की ज्ञापन में बताया कि – पूरा विश्व कोरोना महामारी की चपेट में है, जिसमें करोड़ो लोग ठीक हो चुके है, और करोड़ो संर्घषरत है। और कई काल का ग्रास बन गये। पटाखे और आतिशबाजी प्रदूषण बढाते है। जिनसे इन सब मरीजों को जान का खतरा है। पर्यावरण की दृष्ट्रि से फटाखे, की अधिकता उचित नहीं है। हमारे देश में बुध्दजीवि एवं न्यायापालिका से आपको कुछ सीख लेनी चाहिए? हमारे देश में दीपावली पर्व पर पटाखे प्रदूषण फैलाते है, होली खेलना पानी की बर्बादी नवरात्रि पर्व पर ध्वनि प्रदूषण आदि-आदि प्रदूषण से जिससे हिन्दू धर्मालम्बी के सभी त्यौहारों से समस्या है। वहीं अन्य धर्म के लोग कितने हीं मूक पशुओं को हलाल करके त्यौहार मना ले या क्रिसमस पर फटाखें, आतिशबाजी, मदीरापान, करें उनके लिए कुछ नहीं। देश में साधु संतो की निर्मम हत्या कर दो, हाथी को बम खिलाकर उडा दो सैकड़ों पादरी महिलाओं का योन शोषण करें। आंतकवादियों के लिए कोर्ट रात्रि में सुनवाई करता है। अन्य धर्मो के अनुयायीओं के साथ न्यायपालिका हमेशा लचीला व्यवहार करती है। वहीं हिन्दू धर्म के अनुयायीओं के साथ वेहद सख्ती से पेश आती है। देश में मुस्लीमों को कुरान के हिसाब से तथा ईसाईयों को बाईवल के हिसाब से जीवन जीने की छुट है। सारे नियम कायदे हिन्दूओं को प्रताड़ित करने के लिए होते है। आपके संगठन के अन्तर्गत लगभग 192 देश आते है। क्रिसमस या नये वर्ष की शुरूआत पर पुरा विश्व फटाखे और आतिशबाजी करता है। जिससे प्रदूषण बढना स्वाभाविक है। जो समस्त मानवजाति के लिए खतरे की घंटी है। फटाखे और आतिशबाजी का वैज्ञानिक अध्ययन कर दुषपरिणामों पर विचार कर शीघ्र रोक लगायी जावें। वैसे हमारे देश में एक तुलसी का पौधा होता है जो प्रदूषण नियंत्रित करता है। 24 घंटे आॅक्सीजन प्रदान करता है, जिसका धार्मिक, आध्यात्मिक एवं वैज्ञानिक महत्व भी है। इसके सेवन से भारतवासी स्वस्थ्य एवं दीर्घायु होते है, इसका प्रयोग विश्व के हर घर में हो। ज्ञापन देते समय शिक्षाविद विशाल चउत्रे, आधुनिक चिंतक हर्षुल रघुवंशी, कुंबी समाज के जागरूक नेता अंकित ठाकरे, राष्ट्रीय बजरंगदल के नितेश साहू, पवार समाज के प्रमुख हेमराज पटले, आईटी सेल के प्रभारी भूपेश पहाड़े, युवा सेवा संघ के सोमनाथ पवार, नितिन दोईफोडे, ओमप्रकाश डेहरिया, आदि मुख्य रूप से उपस्थित थें।

 

About Sushil Parihar

Check Also

सागर हत्याकांड में नया खुलासा: सुशील पहलवान के कत्ल की रची गई थी साजिश, पुलिस को मिले चौंकाने वाले सबूत

(रफतार न्यूज ब्यूरो)ः पहलवान सागर धनखड़ हत्याकांड मामले में नया खुलासा सामने आया है। छत्रसाल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share