Wednesday , April 21 2021
Breaking News








Home / दिल्ली / सूत्र के हवाले से AIIMS पैनल ने खारिज की सुशांत सिंह राजपूत केस में मर्डर की थ्योरी

सूत्र के हवाले से AIIMS पैनल ने खारिज की सुशांत सिंह राजपूत केस में मर्डर की थ्योरी

दिल्ली।(ब्यूरो) अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की हत्या नहीं हुई थी. यह आत्महत्या का मामला है. अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) के डॉक्टरों के एक पैनल ने सीबीआई को अपनी राय देते हुए ये बात कही है. एनडीटीवी को सूत्रों ने ये जानकारी दी है. सूत्रों के मुताबिक पैनल ने अभिनेता के परिवार और उनके वकीलों की थ्योरी को खारिज कर दिया है कि उन्हें जहर दिया गया था और गला दबाकर मारा गया था.

34 वर्षीय फिल्म स्टार 14 जून को अपने मुंबई स्थित अपार्टमेंट में मृत पाए गए थे. मुंबई पुलिस ने शव परीक्षण के आधार पर इसे आत्महत्या का मामला करार दिया था लेकिन सोशल मीडिया पर लगे आरोपों, सुशांत को न्याय दिलाने के लिए चलाए गए अभियानों और राजपूत परिवार के संदेह के आरोपों के बाद ये मामला सीबीआई को सौंप दिया गया.

सूत्रों के मुताबिक एम्स पैनल ने अपनी जांच पूरी कर ली है और सीबीआई को अपनी चिकित्सीय-कानूनी राय देने के बाद फाइल बंद कर दी है. अब सीबीआई उस रिपोर्ट के साथ अपनी जांच की कड़ियों को जोड़ रही है. सूत्रों ने बताया कि अब सीबीआई अभिनेता की मौत का एंगल आत्महत्या पर रख सकती है और उसके मुताबिक आगे जांच कर सकती है. मुंबई पुलिस ने भी मूल रूप से इसे आत्महत्या का केस ही मानकर जांच शुरू की थी.

सूत्रों ने बताया कि एम्स पैनल ने मुंबई के उस अस्पताल की राय पर अपनी सहमति जाहिर की है, जिसने अभिनेता का पोस्टमार्टम किया था. मुंबई के अस्पताल ने शव परीक्षण रिपोर्ट में मौत के कारण के रूप में “फांसी के कारण श्वास अवरोध” का जिक्र किया था. सूत्र बता रहे हैं कि परिस्थितिजन्य साक्ष्य से भी लगता है कि अभिनेता ने आत्महत्या की है, उनकी हत्या नहीं हुई है. राजपूत के मित्रों और परिवार के सदस्यों ने कहा था कि वो आत्महत्या नहीं कर सकते हैं.

About Yameen Shah

Check Also

क्या जंग की तैयारी में है North Korea? तानाशाह Kim ने दिया Nuclear Missiles दागने के लिए तैयार रहने का आदेश

प्योंगयांग (रफ़्तार न्यूज़ ब्यूरो) – एक तरफ जहां पूरी दुनिया कोरोना (Coronavirus) महामारी की मार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share