Breaking News








Home / दिल्ली / कोरोनाकाल में अब स्कूल बच्चों के लिए एक सपना

कोरोनाकाल में अब स्कूल बच्चों के लिए एक सपना

देश। पूरे भारत में कोरोना काल में ऐसी स्थिति बन गई ।कि लोगों को बचाने के लिए सरकार ने पूरे भारत को बंद कर दिया गया था। हालांकि भारत अब अनलॉक हो चुका है। लेकिन इस अनलॉक भारत में अभी भी ऐसे बहुत से संस्थान हैं। जो बन्द पड़े हुए हैं। आपको बता दें इनमें से सबसे मुख्य संस्थान हैं। स्कूल बच्चों के स्कूल बंद होने की वजह से अब बच्चे घर में रहकर स्कूल में जो पढ़ाई की जाती थी वह ऑनलाइन पढ़ाई कर रहे हैं। लेकिन जो बच्चों को मजा स्कूल में जाकर पढ़ाई करने में आता है। वह मजा घर पर रहकर ऑनलाइन पढ़ने में नहीं आता। यह जो तस्वीर हम आपको दिखा रहे हैं। कि बच्चे ऑनलाइन पढ़ाई करके कितने ऊब गए हैं की । स्कूल में जैसा बच्चों के साथ होता था ।बच्चे खुद गली में अपने एक दूसरे के साथ किताबें लेकर पढ़ रहे हैं। स्कूल का होमवर्क कर रहे हैं । और क्लास लगा रहे हैं। गलियों में खेलते हुए बच्चे को देखकर कहीं ना कहीं यह साफ नजर आ रहा है। कि इन बच्चों को स्कूल जाने की बहुत बेताबी है।

हालांकि सरकार स्कूलों को 21 सितंबर से खोलने की बात जरूर की जा रही थी। लेकिन अचानक दिल्ली में कोरोना काल के आंकड़े बढ़ते हुए नजर आ रहे हैं ।जैसे ही आंकड़े बड़े वैसे ही बच्चों की स्कूल जाने की जो उम्मीद थी वह टूटती हुई नजर आ रही हैं। इन नन्हे मुन्ने बच्चों को देखिए किस कदर कॉपी किताब लेकर पढ़ाई कर रहे हैं। एक दूसरे से बात कर रहे हैं ।जो स्कूल के अंदर बच्चों को देखने को मिलता है। उसी दर्शय दर्शाने की कोशिश कर रहे हैं ।और अपने स्कूल को मिस कर रहे हैं। जरूरत है। सरकार ऐतिहाती के साथ स्कूलों को खोलने का प्रधान करें। ताकि दोबारा बच्चे स्कूल में जाएं और पहले की तरह क्लास में पढ़ाई के साथ साथ खेल कूद भी करे। इस कोरोना काल मे बच्चों के ऊपर बहुत ज्यादा प्रभाव बढ़ता हुआ नजर आ रहा है।

About Yameen Shah

Check Also

विश्व गतका फेडरेशन द्वारा अंतरराष्ट्रीय गतका दिवस 21 जून को

 इसमाक अवार्डों के लिए होंगे ऑनलाइन गतका मुकाबले विजेताओं को इनामों और ट्रॉफियों के साथ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share