Home / देश / रूस के स्वास्थ्य मंत्री ने बताया, कोरोना वैक्सीन स्पूतनिक-V का पहला बैच

रूस के स्वास्थ्य मंत्री ने बताया, कोरोना वैक्सीन स्पूतनिक-V का पहला बैच

रूस के स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराशको ने बुधवार को बताया कि कोविड -19 की वैक्सीन स्पूतनिक-V की पहला बैच दो हफ्तों के अंदर आ जाएगा। मंगलवार को रूसी स्वास्थ्य मंत्रालय ने दुनिया के पहले कोरोना वायरस वैक्सीन का रजिस्ट्रेशन कराया था।

स्पूतनिक-V नामक की कोरोना वैक्सीन को गेमालेया रिसर्च इंस्टीट्यूट और रूसी रक्षा मंत्रालय ने मिलकर बनाया है। मुरास्को ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि दो सप्ताह के भीतर वैक्सीन का पहला बैच जारी किया जाएगा।

मंत्री ने बताया कि टीकाकरण पूरी तरह से स्वैच्छिक होगा। उन्होंने कहा कि जिन डॉक्टरों को लगता है कि उनके पास पहले से ही कोरोनो वायरस से लडने के लिए प्रतिरक्षा क्षमता लगभग 20 प्रतिशत हैं और सोचते हैं कि उन्हें टीकाकरण की आवश्यकता नहीं है तो यह तय करना उनके ऊपर होगा।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि रूस की जरूरतों को कवर करना एक प्राथमिकता है, लेकिन वैक्सीन को विदेशों में भी निर्यात किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि वैक्सीन को हम दूसरे देशों को भी देंगे लेकिन घरेलू बाजार की जरूरतें हमारी प्राथमिकता हैं।

रूसी स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोविड-19 के खिलाफ विकसित की गई वैक्सीन निश्चित रूप से कारगर है और यह अन्य देशों को भी उपलब्ध कराई जाएगी, लेकिन घरेलू स्तर पर इसकी मांग को ध्यान में रखकर आपूर्ति करना हमारी पहली प्राथमिकता है।

मुरास्को ने कोविड-19 के खिलाफ विकसित की गई रूस की वैक्सीन की गुणवत्ता और सुरक्षा को लेकर उठाए जा रहे सवालों को सिरे से खारिज करते हुए इन्हें आधारहीन बताया है। उन्होंने कहा कि मैं समझता हूं कि हमारे विदेशी साथी वैक्सीन विकसित करने में मामले में प्रतिस्पर्धा महसूस कर रहे हैं इसलिए उन्होंने ऐसे विचार व्यक्त किए हैं जिन्हें हम आधारहीन मानते हैं। रूस ने वैक्सीन का विकास निश्चित क्लीनिकल जानकारी और डाटा को ध्यान में रखकर किया है।

इससे पहले रूस मंगलवार को वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) की वैक्सीन को मंजूरी देने वाला दुनिया का पहला देश बन गया है। यह वैक्सीन अगले साल एक जनवरी से आम लोगों के लिए उपलब्ध होगी। रूस का कहना है कि गैमलिया रिसर्च इंस्टीट्यूट और रूस के रक्षा मंत्रालय द्वारा संयुक्त रूप से विकसित ‘स्पूतनिक वी’ के नाम से जानी जाने वाली कोरोना वैक्सीन सबसे पहले कोरोना संक्रमितों के इलाज में जुटे स्वास्थ्य कर्मियों को दी जाएगी। इसके बाद एक जनवरी 2021 से यह आम लोगों के लिए उपलब्ध होगी। स्पूतनिक वी को ‘गैम कोविड वैक’ के नाम से पंजीकरण प्राप्त हुआ है लेकिन रूस के पहले उपग्रह स्पूतनिक की लोकप्रियता को देखते हुए इसे स्पूतनिक वी के नाम से वितरित किया जाएगा।

About Yameen Shah

Check Also

Education department releases grant of Rs 23.65 crore released for skill labs in 379 government schools

Chandigarh, (Raftaar News Bureau)- As part of the series of initiatives are being taken by …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share