Thursday , October 1 2020
Breaking News
Home / दिल्ली / 15 लाख से अधिक भारतियो लोगों ने दी कोरोना को मात

15 लाख से अधिक भारतियो लोगों ने दी कोरोना को मात

दिल्‍ली।(ब्यूरो) केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार देश में अभी तक 1535743 लोग कोरोना वायरस संक्रमण से ठीक हो चुके हैं। इसके साथ-साथ रिकवरी रेट लगभग 70 फीसदी पहुंच गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक देश में पिछले 24 घंटे में 54,859 लोगों ने कोरोना को मात दिए और इनको अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। स्वास्थ्य मंत्रालय ने ट्वीट करते हुए कहा है कि ऐसा टेस्टिंग, फास्ट ट्रैकिंग और ट्रीटिंग के साथ-साथ एंबुलेंस सेवाओं और ऑक्सीजन की उपलब्धता की वजह से ऐसा संभव हो पाया है।

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक भारत में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 62064 केस सामने आए हैं। इसी के साथ देश में कुल संक्रमितों का आंकड़ा 22 लाख के आंकड़े को पार कर गई। वहीं, कोरोना वायरस संक्रमण से 1007 और लोगों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 44,386 हो गई है।

मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार देश में 6,34,945 मरीजों का कोविड-19 का इलाज जारी है। कोविड-19 के कुल 22,15,074 मामले हैं, जिनमें संक्रमण से जान गंवाने वाले 44,386 लोग शामिल हैं। देश में लगातार चौथे दिन कोविड-19 के 60,000 से अधिक नए मामले सामने आए हैं। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार देश में अभी तक कुल 24583558 नमूनों की जांच की जा चुकी है, जिनमें से रविवार को 477023 नमूनों की जांच की गई।

मंत्रालय ने कहा कि कोरोना वायरस का सबसे ज्यादा संक्रमण 10 राज्यों में हैं जहां से लगभग 80 प्रतिशत मामले सामने आए हैं। वहीं, स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने भी ट्वीट कर कहा कि कोरोना हार रहा है, देश जीत रहा है। देश में 15 लाख से अधिक मरीज़ ठीक हो चुके हैं। यह सब डॉक्टरों, नर्सों और अग्रिम पंक्ति के स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के नि:स्वार्थ सेवा भाव और समर्पण भाव के कारण संभव हो पाया है। भारत के कोरोना वायरस के सक्रिय मामले 6,34,945 हैं जबकि मृत्यु दर 2 प्रतिशत है जो लगातार घट रही है।

About Yameen Shah

Check Also

सुप्रीम कोर्ट: 4 अक्टूबर को ही होगी यूपीएससी सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा

दिल्ली।(ब्यूरो) यूपीएससी सिविल सर्विस प्री परीक्षा 2020 4 अक्टूबर को ही आयोजित की जाएगी। सुप्रीम …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share