Saturday , September 26 2020
Breaking News
Home / पंजाब / बादल परिवार नहीं चाहता कि बेअदबी और गोली कांड मामलों का सत्य सामने आए

बादल परिवार नहीं चाहता कि बेअदबी और गोली कांड मामलों का सत्य सामने आए

चंडीगढ़ (पीतांबर शर्मा) : ‘‘श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी के पवित्र सरूपों की बेअदबी और निहत्थे सिखों पर गोली चलाने के मामलों के मामले में सीधे तौर पर जि़म्मेदार अकाली अब अपने राजसी आका भाजपा की मदद से सी.बी.आई. के सहारे दोषियों को बचाना चाहते हैं।’’ यह दोष सीनियर कांग्रेसी नेता और कैबिनेट मंत्री सुखजिन्दर सिंह रंधावा ने आज यहाँ जारी प्रैस बयान में लगाए।
बरगाड़ी कांड में एस.आई.टी. जांच रोकने हेतु सी.बी.आई. द्वारा फिर से रुकावट पैदा करने के लिए अदालत में पहुँचने से बादलों की सच्चाई सामने आई है। उन्होंने कहा कि जब भी एस.आई.टी. अपनी जांच में आगे बढ़ती है तो बादल परिवार तिलमिलाने लग जाता है और दिल्ली दरबार में घुटने टेकता हुआ केंद्र सरकार की कठपुतली सी.बी.आई. के द्वारा दोषियों को बचाने के लिए हाथ-पैर मारने लग जाते हैं। उन्होंने कहा कि अब भी अकाली दल के इशारे पर सी.बी.आई. सब कुछ कर रही है और इसके बदले अकाली दल ने पंजाब, सिखों और किसानों के हितों की तिलांजलि दे दी है। हाल ही में खेती अध्यादेशों पर अकाली दल की तरफ से किसान विरोधी फ़ैसले के लिए भाजपा की हिमायत भी इसी का निष्कर्ष है।
स. रंधावा ने कहा कि बादल परिवार नहीं चाहता कि बेअदबी और गोली कांड के मामलों का सत्य सामने आए। उन्होंने कहा कि पहली बात तो अकाली सरकार के समय यह सब कुछ घटा जिसके लिए यह सीधे जिम्मेदार हैं। उन्होंने आगे कहा कि 2015 में घटी इस दिल दहला देने वाली घटनाओं की जांच लटकाने के लिए जानबूझकर केस सी.बी.आई. को सौंप कर ठंडे बस्ते में डाल दिया था। इसके बाद जब कैप्टन अमरिन्दर सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस सरकार ने इन मामलों का निपटारा करने के लिए एस.आई.टी. बनाई तो सी.बी.आई. ने अदालत के पास क्लोजर रिपोर्ट सौंप दी। इस बारे में पंजाब विधानसभा ने प्रस्ताव भी पारित किया और पंजाब सरकार ने उच्च अदालतों में जाकर लड़ाई भी जीती। अब जब एस.आई.टी. इन मामलों में पड़ाव दर पड़ाव आगे बढ़ती हुई असली दोषियों को नंगा करके इन्साफ दिलाना चाहती है तो अकाली दल के इशारे पर सी.बी.आई. ने फिर से अदालत में रुकावट पैदा करने की कोशिश की है। उन्होंने कहा कि अकाली दल और भाजपा दोनों का ही डेरा सिरसा को बचाने में सारा ज़ोर लगा हुआ है। उन्होंने कहा कि पंजाब में पिछली दो विधानसभा मतदान में डेरे की तरफ से अकाली दल और हरियाणा में भाजपा को की गई सीधी हिमायत इस बात का सबूत है कि अकाली-भाजपा इस केस के दोषियों को बचाना चाहती है।
कांग्रेसी नेता ने कहा कि कैसी विडम्बना है कि सिक्खों की नुमायंदा पार्टी कहलाने वाली अकाली दल आज गुरू साहिब की बेअदबी और निहत्थे सिखों पर गोली चलाने के दोषियों को बचाने वालों के साथ खड़ी हो गई है। उन्होंने कहा कि सिख कौम इस घिनौने गुनाह के लिए अकाली दल ख़ासकर बादल परिवार को कभी माफ नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि सिखों का सबसे बड़ा दुख अकाली दल की भूमिका पर है, भाजपा से तो कभी सिखों ने अच्छी आशा रखी ही नहीं।

About admin

Check Also

भारतीय चुनाव आयोग द्वारा कोविड 19 के दौरान मतदान करवाने संबंधी ‘मुद्दे, चुनौतियां और सावधानियां’ विषयों पर वैबिनार का आयोजन

     *     दुनिया भर के लोकतांत्रिक देशों ने इकठ्ठा होकर कोविड 19 के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share