Saturday , August 8 2020
Breaking News
Home / Breaking News / परमाणु युद्ध की तैयारी: घेर लिया चीन, अमेरिका ने उतारे साउथ चाइना सी में परमाणु युद्धपोत ?

परमाणु युद्ध की तैयारी: घेर लिया चीन, अमेरिका ने उतारे साउथ चाइना सी में परमाणु युद्धपोत ?

दिल्ली (रफतार न्यूज डेस्क): एक तरफ लद्दाख में भारत और चीनी सेना के बीच तनातनी बरकरार है वहीं दूसरी तरफ साउथ चाइना सी में भी तनाव बढ़ता जा रहा है. अमेरिका ने परमाणु शक्ति से लैस अपने दो एयरक्राफ्ट कैरियर साउथ चाइना सी में भेज दिए हैं. इससे चीन के साथ अमेरिका का तनाव चरम पर पहुंच गया है.
जैसे-जैसे चीन हिंद और प्रशांत महासागर के क्षेत्र में अपना बाहुबल बढ़ा रहा है अमरीका इस बात पर आमादा है कि समुद्र में चीन को घेरेंगे और करारा जवाब देंगे.
समुंदर में चीन पर दबाव बनाने और जरूरत पड़ने पर हमला करने के लिए अमेरिका ने अपने दो युद्ध पोत रोनाल्ड रीगन और निमित्ज को दक्षिण चीन सागर में तैनात कर दिया है. इसके बाद से इस क्षेत्र में तनाव चरम पर पहुंच गया है. ये दोनों युद्धपोत एयरक्राफ्ट कैरियर से उड़ान भरने वाले लड़ाकू विमानों की स्ट्राइक करने की क्षमता का लगातार अपनी नजर बनाए हुए हैं.
ये दोनों ही परमाणु शक्ति से लैस मल्टी मिशन एयरक्राफ्ट कैरियर हैं तथा ये विशालकाय जहाज दुनिया के सबसे बड़े जहाजों में गिने जाते हैं और जो करीब 5,000 नौसैनिकों को ले जाने की क्षमता रखते हैं.
परमाणु शक्ति से लैस युद्धपोतों की इस तैनाती से साफ है कि अमेरिका अपनी शक्ति चीन पर आजमाने के लिए तैयार है. कारण भी साफ है करोना को लेकर अमेरिका और चीन के बीच तनाव इस हद तक बढ़ चुका है कि अमेरिका मौका ढूंढ रहा है जिससे वो चीन की ताकत और प्रभाव को धूल में मिला सके.
अमेरिका ने साउथ चाइना सी में ये युद्धाभ्यास ऐसे समय पर शुरू किया है जब इसी इलाके में चीन की नौसेना भी युद्धाभ्यास कर रही है. 1 जुलाई से चीन की नौसेना अपनी सैन्य तैयारियों का प्रदर्शन करके ताइवान और दूसरे पड़ोसी देशों को धमकाने में जुटी हुई है.
चीन ने इस साल में वियतनाम से लेकर ताइवान तक हर पड़ोसी देश के साथ टकराव और तनाव बढ़ाया है. चीन की इन हरकतों के विरोध में फिलीपींस ने फ्रंट खोल दिया है. फिलीपींस ने चीन को चेतावनी देते हुए दक्षिण चीन सागर में अपना युद्धाभ्यास रोकने को कहा है. साउथ चाइना सी में ऐसे टकराव पिछले कुछ महीनों में बहुत बढ़े हैं.
इस समय पूरी दुनिया चीन के खिलाफ एक साथ आ रही है और समीकरण बदल रहे हैं. चीन के दुश्मन आपस में दोस्ती निभा रहे हैं और चीन की परेशानी ये है कि इस समय उसके दुश्मनों की संख्या बहुत ज्यादा है. ऐसे हालात में अमेरिका के परमाणु शक्ति वाले एयरक्राफ्ट कैरियर्स का दक्षिण चीन सागर में तैनात होना अपने आप में चीन के खौफ भरा पैगाम है.

About admin

Check Also

Corona vaccine update: 12 अगस्त को रजिस्टर होगी वैक्सीन

ब्यूरो। कोरोना वैक्सीन का इंतजार इस समय दुनिया के हर शख्स को है, रूस ने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share