Wednesday , June 16 2021
Breaking News








Home / देश / पूर्ण सूर्य ग्रहण: कन्याकुमारी में शुरु और डिब्रूगढ़ में होगा अंत

पूर्ण सूर्य ग्रहण: कन्याकुमारी में शुरु और डिब्रूगढ़ में होगा अंत

नई दिल्ली (रफतार न्यूज डेस्क): 2020 का पहला पूर्ण सूर्य ग्रहण रिंग ऑफ फायर की तरह नजर आएगा जिसे देखने के लिए लोगों में काफी उत्साह नजर आ रहा है। प्लैनेटरी सोसायटी ऑफ इंडिया (पीएसआई) के निदेशक एन रघुनंदन कुमार ने मीडिया को बताया कि पूर्ण सूर्य ग्रहण उस समय लगता है जब सूर्य और चंद्रमा का एक- दूसरे का एक दूसरे से सामना होता है लेकिन चंद्रमा का आकार तुलनात्मक रूप से छोटा होने के कारण सूर्य एक चमकती हुई अंगूठी की तरह नजर आता है।
पूर्ण सूर्य ग्रहण केवल उत्तरी भारत के कुछ जगहों पर ही दिखेगा जबकि देश के बाकी हिस्सों में यह आंशिक रूप से नजर आएगा। भारत में विभिन्न स्थानों पर अलग-अलग समय पर सूर्य ग्रहण सुबह 9.56 बजे से लेकर दोपहर बाद 14.29 बजे तक दिखेगा। अधिकतर स्थानों पर आंशिक सूर्यग्रहण ही दिखेगा।
यह सूर्य ग्रहण विश्व में अफ्रीका (पश्चिमी और दक्षिण हिस्सों को छोड़कर), दक्षिण-पूर्व यूरोप, मध्य-पूर्व, एशिया (उत्तरी और पूवी रूस को छोड़कर) और इंडोनेशिया में दिखाई देगा। सूर्य ग्रहण सबसे पहले अफ्रीकी देश कांगो में दिखाई देगा।
भारत के सूरतगढ़ (राजस्थान), सिरसा, कुरुक्षेत्र (हरियाणा) और उत्तराखंड के देहरादून, चमोली एवं जोशीमठ में लोगों को पूर्ण सूर्य ग्रहण (रिंग ऑफ फॉयर के जैसा) देखने का असवर मिलेगा। भारत के बाद चीन, ताइवान और प्रशांत महासागर क्षेत्र से सूर्य ग्रहण दिखाई देगा।
भारत में द्वारिका के लोग सबसे पहले (सुबह 9.56 बजे) सूर्य ग्रहण देख सकेंगे। देश में सबसे अंत में (दोपहर बाद 14.29 बजे) सूर्य ग्रहण असम के डिब्रूगढ़ में नजर आएगा। तमिलनाडु के कन्याकुमारी में सूर्य ग्रहण सबसे पहले (दोपहर बाद 1.15 बजे) समाप्त हो जाएगा।
इस सूर्य ग्रहण के मद्देनजर गर्भवती महिलाओं के लिए भारत सरकार अथवा विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की तरफ से कोई स्वास्थ्य अलर्ट जारी नहीं किया गया।
सूर्य ग्रहण के दौरान ध्यान रखें ये बातें
– बच्चों से लेकर बड़ों तक कोई भी इस ग्रहण को नंगी आंख से न देखें। नासा के अनुसार, सूर्य ग्रहण को देखने के लिए सोलर फिल्टर ग्लास वाले चश्में का इस्तेमाल करें।
– घर के बनाए जुगाड़ वाले चश्मे या किसी लेंस से सूर्य ग्रहण न देखें। इससे आपकी आंख पर बुरा असर हो सकता है।
– ग्रहण के वक्त आकाश की ओर देखने से पहले सोलर फिल्टर चश्मा लगाएं और नजर नीचे करने के बाद या ग्रहण समाप्त होने के बाद ही इसे हटाएं।
– एक अमेरिकी संस्था के अनुसार, ग्रहण के वक्त कार या अन्य वाहन न चलाएं।
– बच्चों को यदि ग्रहण दिखाने का प्लान बना रहे हैं तो उनकी आखों को बचाने वाले सोलर फिल्टर चश्मे की व्यवस्था जरूर कर लें।
-लेकिन यदि कोई ग्रहण के वक्त रास्ते में ही है तो वह अपने वाहन की हेडलाइट जलाकर और अन्य वाहनों से कुछ दूरी बनाकर ही वाहन चलाए। ड्राइविंग में विशेष सावधानी बरतने की हिदायत है।

About admin

Check Also

सागर हत्याकांड में नया खुलासा: सुशील पहलवान के कत्ल की रची गई थी साजिश, पुलिस को मिले चौंकाने वाले सबूत

(रफतार न्यूज ब्यूरो)ः पहलवान सागर धनखड़ हत्याकांड मामले में नया खुलासा सामने आया है। छत्रसाल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share