Wednesday , September 30 2020
Breaking News
Home / Breaking News / साइकिल पर 1200 किमी का सफर: अमेरिकी राष्ट्रपति की बेटी इवांका ट्रम्प ने बिहार की ज्योति के हौसले की तारीफ

साइकिल पर 1200 किमी का सफर: अमेरिकी राष्ट्रपति की बेटी इवांका ट्रम्प ने बिहार की ज्योति के हौसले की तारीफ

दरभंगा (रफतार न्यूज ब्यूरो): अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की बेटी और सलाहकार इवांका ट्रम्प ने बिहार की 15 साल की बच्ची ज्योति के हौसले की तारीफ की है। ज्योति ने अपने जख्मी पिता को साइकिल पर बिठाकर 1200 किलोमीटर की दूरी तय की थी। वो 7 दिन साइकिल चलाकर अपने घर पहुंची थी। इवांका ट्रम्प ने कहा है कि ज्योति ने जो किया, वह सहनशीलता और अपनों के लिए प्यार का एक खूबसूरत उदाहरण है। इससे भारत के लोगों की भावनाएं पता चलती हैं।
लॉकडाउन में पब्लिक ट्रांसपोर्ट बंद है, इसलिए ज्योति ने पैसे उधार लेकर साइकिल खरीदी और घर लौटने को तैयार हो गई। जख्म होने की वजह से मोहन खुद साइकिल नहीं चला सकते थे, इसलिए उन्होंने बेटी को ये कहकर रोकना चाहा कि मेरा वजन खींचना आसान नहीं होगा। लेकिन, ज्योति ठान चुकी थी और उसने कर दिखाया।
लॉकडाउन के बीच अपने पिता को साइकिल पर बैठा कर हरियाणा के गुरुग्राम से दरभंगा पहुंचने वाली बिहार की बेटी ज्योति इस समय सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बनी हुई है. पूरे देश के अलावा विदेशों में भी लोग उसके हौसले को सलाम कर रहे हैं. अब उन्हें भारतीय साइकिलिंग फेडरेशन से ट्रायल के लिए न्योता आया है

ज्योति के इस साहसिक कदम को देखते हुए भारतीय साइकिलिंग फेडरेशन ने उन्हें ट्रायल के लिए दिल्ली बुलाया है. मीडिया से बात करते हुए ज्योति ने बताया कि मुझे साइकिल में रेस लगाने के लिए फोन आया, मैंने कहा कि मैं अभी तो रेस नहीं लगा सकती हूं क्योंकि मेरे पैर और हाथ सब दर्द कर रहे हैं. अब भारतीय साइकिलिंग फेडरेशन ने उन्हें एक महीने बाद ट्रायल के लिए आने को कहा है. यदि ज्योति ट्रायल में सफल रहती है तो ज्योति को दिल्ली में नेशनल साइक्लिंग एकेडमी में फेडरेशन के खर्च पर ट्रेनिंग दी जाएगी।
ज्योति के पिता मोहन पासवान गुड़गांव में रिक्शा चलाते थे। ज्योति मार्च में पिता के पास गई थी। इसके बाद देशभर में लॉकडाउन हो गया। इसी बीच उसके पिता एक्सीडेंट में घायल हो गए। मोहन का काम-धंधा बंद हो गया, पैसे थे नहीं, ऊपर से मकान मालिक घर से निकालने की धमकी देने लगा। बाप-बेटी खाने तक के लिए मोहताज हो गए थे। इसलिए, ज्योति ने पिता को साथ लेकर अपने घर जाने की ठान ली। ज्योति का घर दरभंगा के सिरहुल्ली गांव में है।

About admin

Check Also

मोगा में हथियारबंद लुटेरों के ख़तरनाक गिरोह का पर्दाफाश

मोगा (रफतार न्यूज डेस्क) : पंजाब पुलिस ने मोगा में हथियारबंद लुटेरों के एक ख़तरनाक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share