Breaking News








Home / दुनिया / कोरोना पर चीन में ही घिर गए शी जिनपिंग, बगावत शुरू ?

कोरोना पर चीन में ही घिर गए शी जिनपिंग, बगावत शुरू ?

  नई दिल्ली (रफतार न्यूज ब्यूरो):  अगला एक हफ्ता चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के लिए बहुत अहम है ? हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि चीन में सरकार की सबसे ऊंची राजनीतिक सलाहकार संस्था चाइना पीपुल्स पॉलिटिकल कंसल्टेटिव कॉन्फ्रेंस की अहम वार्षिक बैठक 21-27 मई के बीच बीजिंग में होने जा रही है.

कोरोना संकट के दौरान हो रही यह चीन की सबसे बड़ी राजनीतिक बैठक है. इस बैठक में जिनपिंग के टोटल कंट्रोल के खिलाफ आवाज उठने जा रही है. आवाज उठाने वालों में कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्य और चीन की ताकतवर सेना के कुछ पूर्व अधिकारी होंगे. इसके अलावा, चीन के कोरोना को लेकर आवाज उठाने वालों के साथ जिस तरह का सलूक किया गया है, उसे लेकर भी नाराजगी है.

चीन के कोरोना का खुलासा करने वाले डॉक्टर की रहस्यमयी मौत को लेकर भी लोगों में नाराजगी है. सोशल मीडिया पर कोरोना के खिलाफ आवाज़ उठाने वालों के साथ जिस तरह का सलूक किया गया उसे लेकर भी जिनपिंग के खिलाफ गुस्सा है. कोरोना पर चीन जिस तरह से पूरी दुनिया में अलग थलग हुआ है उससे भी लोग चिंतित हैं.

चीन पर एक छत्र राज करने वाले शी जिनपिंग की सत्ता के खिलाफ अब बड़े पैमाने पर एक साथ आवाज़ उठने जा रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन की कॉम्युनिस्ट पार्टी के बहुत सारे सदस्य और कार्यकर्ता वन मैन रूल नहीं चाहते हैं. चाइना पीपुल्स पॉलिटिकल कॉन्फ्रेंस और नेशलन पीप्लस कॉन्फ्रेंस में आने वाले 7,000 प्रतिनिधियों से भी समर्थन जुटाने की कोशिश की जा रही है. चीन की ताकतवर पीपल्स लिबरेशन आर्मी के भी कुछ रिटार्यड अधिकारी भी इस प्लान में बताए जा रहे हैं. छात्रों के संगठन, बुद्धीजीवी भी इस मुहिम में साथ हैं. कोरोना पर चीन ने जिस तरह से पूरी दुनिया को अंधेरे में रखा और अब जब पूरा विश्व चीन को तबाही का गुनहगार मान रहा है तो चीन के अंदर के भी आवाज बुलंद होने लगी हैं.

About admin

Check Also

पंजाब में झुग्गी-झोंपड़ीयों में रहने वाले 1996 परिवारों को मिला मालिकाना हक

मुख्या सचिव द्वारा 11,000 और झुग्गी झोंपड़ी वालों को मालिकाना हक देने के आदेश चंडीगढ़, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share