Breaking News








Home / पंजाब / गेहूं के सिकुड़े और बदरंग दानों की कीमत कटौती वापस लेने प्रधानमंत्री तुरंत हस्तक्षेप करेंः परनीत कौर 

गेहूं के सिकुड़े और बदरंग दानों की कीमत कटौती वापस लेने प्रधानमंत्री तुरंत हस्तक्षेप करेंः परनीत कौर 

 * संकट समय देश निवासियों के लिए भोजन मुहैया करवा रहे पंजाब के किसानों की सार लें नरेंद्र मोदीः परनीत कौर
पटियाला (रफ़्तार न्यूज़ ब्यूरो)  : पटियाला से लोक सभा सदस्य श्रीमती परनीत कौर ने केंद्र सरकार की तरफ से पंजाब में हुई बेमौसम बारिश के चलते सिकुड़ गए और बदरंगा हुए गेहूं के दानों की खरीद सम्बन्धित निर्धारित शर्तों में ढ़ील देते हुए इसके न्यूनतम समर्थन मूल्य पर लगाई कटौती को वापस लेने के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र  मोदी को तुरंत निजी हस्तक्षेप करने की अपील की है।
लोक सभा सदस्य श्रीमती परनीत कौर ने बीते दिन प्रधानमंत्री को की गई, अपनी अपील में कहा है कि केंद्र सरकार के इस फैसले से पंजाब के उन किसानों को दोहरी मार पड़ी है, जो इस संकट के समय में भी अनेक चुनौतियों के बावजूद देशवासियों का पेट भरने के लिए तनमन से लगे हुए हैं।
श्रीमती परनीत कौर ने कहा कि केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एंव सार्वजनिक वितरण मंत्रालय की तरफ से सिकुड़े दाने पर प्रति क्विंटल 4.81 रुपए से 24.06 रुपए तक और बदरंग दानों पर 4.81 रुपए कीमत कटौती बर्दाश्त नहीं की जा सकती। उन्होंने कहा कि इससे पहले ही लाॅकडाऊन की मार बर्दाश्त कर रहे किसानों पर भारी बोझ पड़ेगा।
श्रीमती परनीत कौर ने कहा कि इससे पहले पंजाब के मुख्य मंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने भी केंद्र सरकार से किसानों की बेटों की तरह पाली फसल की कीमत में कटौती लागू किये जाने के कदम को तुरंत वापस लेने की माँग की थी।

लोक सभा सदस्य ने जोर दे कर कहा कि कोरोना वायरस के चलते पैदा हुई इस संकट की घड़ी में भी पंजाब का किसान पूरे देश को भोजन मुहैया करवा रहा है इसलिए ऐसे में किसानों को पहले की अपेक्षा अधिक सहायता की जरूरत है जिससे वह और ज्यादा उत्साह के साथ खेती करन के लिए प्रेरित हो सकें।

About admin

Check Also

कोविड वैक्सीन की कम स्पलाई ने पंजाब में टीकाकरण मुहिम को प्रभावित कियाः बलबीर सिद्धू

चंडीगढ़, 24 जून (पीतांबर शर्मा) : देश में कोरोना की तीसरी संभावी लहर की दस्तक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share