Breaking News








Home / Breaking News / कोरोना को हराना है , अपने प्रयास में कोई भी कमी ना छोड़ें प्रदेशवासी -सीएम मनोहर लाल

कोरोना को हराना है , अपने प्रयास में कोई भी कमी ना छोड़ें प्रदेशवासी -सीएम मनोहर लाल

चंडीगढ़ ।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने राज्य के लोगों का आह्वान करते हुए कहा कि कोविड-19 महामारी के प्रकोप को समाप्त करने के लिए कोई भी व्यक्ति अपने प्रयास में किसी भी प्रकार की कमी न छोड़ें। जो व्यक्ति इस महामारी से अपने पूरे प्रयास से लडेगा, आने वाले इतिहास में उसका नाम लिखा जाएगा।

मुख्यमंत्री शुक्रवार को चण्डीगढ में लाईव टेलीविजन पर राज्य के लोगों को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने राणा सांगा और बाबर की फौजों के बीच खनवा युद्ध का एक प्रसंग  सांझा करते हुए कहा कि ‘‘आज मैं सभी मेवाती भाईयों से कहना चाहता हूं कि कोरोना की लड़ाई में हम सब मिलकर लडें, जैसे शहीद हसन खां मेवाती ने राणा सांगा के साथ खड़े होकर बाबर की फौजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी। मेवात यदि हमारे साथ कोरोना की लड़ाई में मिलकर चलता है तो मैं निश्चित रूप से कहना चाहूंगा कि इसमें किसी भी प्रकार की कोई कठिनाई नहीं हैं कि मेवात से हम इस बीमारी को भगा न सकें। नूंह जिला के लोग इस लड़ाई को लडऩे का दम दिखाएं, इस लड़ाई में पीछे न रहें’’।नूंह जिला को कोरोना की दृष्टि से बहुत ही महत्वपूर्ण बताते हुए मुख्यमंत्री ने मौलवियों से आग्रह किया कि वे समाज के लोगों को समझाएं कि वे बाहर न निकलें और यदि कोई बाहर से आया या गया हुआ है तो वे अपना टेस्ट करवाएं तथा 14 दिन का क्वारंटीन पीरियड पूरा करें।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल की विभिन्न लोगों से फोन पर बातचीत 

स्टाफ नर्स शशि बाला ने मुख्यमंत्री को बताया कि ‘‘उन्होंने भी इस संकट की घड़ी में अपना एक माह का वेतन कोरोना रिलिफ फंड में दिया है क्योंकि वे अस्पताल में काम करती हैं और अस्पताल में गरीबों को देखती है कि कई लोगों के पास कुछ भी नहीं होता और उनकी आर्थिक स्थिति भी ठीक नहीं होती, इसलिए उन्होंने बिना किसी से पूछे यह मन बना लिया था कि वे अपना एक माह का वेतन फंड में देंगी’’।वहीं, सिपाही रवि ने मुख्यमंत्री से बातचीत करते हुए बताया कि ‘‘उनके द्वारा की गई पढाई, ईमानदारी के गुण, पुलिस ट्रेनिंग की वजह से ही उनके मन में यह था कि इंसानियत के लिए कुछ करना चाहिए। इसलिए उन्होंने भी एक माह का वेतन फंड में जमा कराया है’’।सरला देवी, जो जेबीटी टीचर हैं, ने मुख्यमंत्री को बताया कि ‘‘मैंने चुपचाप किसी से पूछे बिना अपनी शत-प्रतिशत सैलरी कोरोना रिलिफ फंड में डोनेट कर दी है, उन्होंने मुख्यमंत्री से बातचीत की मार्फत राज्य के लोगों को संदेश दिया कि सभी घरों में अपने आपको सुरक्षित रखें, आप स्वयं सुरक्षित हैं, तो देश सुरक्षित हैं’’।मुख्यमंत्री ने कहा कि हम हरियाणा से इस बीमारी को हराएंगें और भारत से भी भगाएंगें। उन्होंने कहा कि इस बीमारी से निपटने के लिए कई नई पहल की जा रही है, इसी कडी में करनाल के लोगों ने ‘अडोप्ट-ए-फेमिली’ की एक अवधारणा शुरू की है जिसके तहत आप किसी भी परिवार को अडोप्ट कर सकते हैं। इस अभियान के तहत लगभग 400 लोगों ने अपना योगदान दिया है।

About admin

Check Also

हरियाणा: चार माह से लापता किसान बिजेंद्र को लेकर प्रदर्शन, जींद-चंडीगढ़ मार्ग बंद करने की चेतावनी

(रफतार न्यूज ब्यूरो)ः किसान आंदोलन में भाग लेने 26 जनवरी को दिल्ली गया कंडेला गांव …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share