Tuesday , September 22 2020
Breaking News
Home / Breaking News / मनरेगा मजदूरों के लिए बन रहा प्लान , रबी सीजन में मंडियों में मिल सकता है काम

मनरेगा मजदूरों के लिए बन रहा प्लान , रबी सीजन में मंडियों में मिल सकता है काम

चंडीगढ़ ।

प्रदेश में रबी सीजन के तहत दो बड़ी फसल गेहूं और सरसों की आवक हरियाणा में 15 और 20 अप्रैल से शुरू हो जाएगी। लॉक डाउन के चलते फिलहाल प्रवासी मजदूरों की भारी कमी चल रही है। ऐसे में खाद्य एवं आपूर्ति विभाग और पंचायत विभाग ने संयुक्त बैठक कर नई रणनीति तैयार की है। प्रदेश की बड़ी मंडियों के लिए पहले श्रमिकों की जरूरत है ऐसे में मनरेगा के तहत गांव के जो मजदूर पंजीकृत हैं उन्हें मंडियों में सरसों और गेहूं की सफाई, गहराई, भराई और तुलाई आदि के काम में लगाया जाएगा।टप्रदेश की अनाज मंडियों में सीजन के पहले 30 दिनों तक 20 से 25 हजार मजदूरों की जरूरत होगी। इसके लिए खाद एवं आपूर्ति विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पीके दास ने बताया कि ताजा रणनीति यह बनाई गई है कि प्रदेश की जो बड़ी अनाज मंडी हैं, उनके लिए अधिक मजदूरों की दरकार होगी। पंचायत विभाग संबंधित गांवों के सरपंचों से संपर्क करेगा और यह आंकड़ा जुटाएगा कि किस गांव में मनरेगा के तहत कितने मजदूर पंजीकृत हैं। साथ ही इन मजदूरों से सहमति ली जाएगी कि वह मनरेगा के तहत अनाज मंडियों में काम करने को तैयार हैं यह नहीं।जल्द ही इस कार्य को पूरा कर लिया जाएगा ताकि विभाग के पास इन मजदूरों का आंकड़ा तैयार हो सके। आपको बता दें कि हर साल अप्रैल के प्रारंभ से ही रबी फसलों के अनाज की खरीद अनाज मंडियों में शुरू हो जाती है। अबकी बार प्रदेश सरकार लोक डाउन की वजह से 15 अप्रैल से सरसों और 20 अप्रैल से गेहूं की खरीद प्रक्रिया शुरू कर सकती है। इसके लिए खाद्य एवं आपूर्ति विभाग ने मंडी में जितने मजदूरों की गेहूं व सरसों की खरीद प्रक्रिया में जरूरत है उसकी लिस्ट तैयार कर पंचायत विभाग को सौंप दी गई है।

About admin

Check Also

मुख्य सचिव द्वारा कोविड-19 की रोकथाम और प्रबंधों के लिए जिला अधिकारियों को कोशिशें और तेज़ करने की हिदायतें

    *   मृत्युदर घटाने के लिए कोरोना इलाज की सहूलतों में और सुधार करने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share