Breaking News








Home / Breaking News / हरियाणा पुलिस पूरी तरह सतर्क , अंतर्राजीय नाकों पर जाँच पुख्ता

हरियाणा पुलिस पूरी तरह सतर्क , अंतर्राजीय नाकों पर जाँच पुख्ता

चंडीगढ़ ।
हरियाणा पुलिस ने श्रमिकों और प्रवासी मजदूरों के पलायन को रोकने एवं कोविड-19 के संक्रमण को प्रभावी ढंग से नियंत्रित करने के लिए अपनी सभी अंतरराज्यीय सीमाओं को पूरी तरह से सील कर दिया है। राज्य में पुलिसकर्मियों द्वारा विभिन्न नाकों पर लॉ एंड ऑर्डर ड्यूटी के अतिरिक्त, गरीबों और जरूरतमंदों को भोजन व दैनिक आवश्यकता की अन्य वस्तुएं भी मुहैया करवाई जा रही हैं।
अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था)  नवदीप सिंह विर्क ने आज यहां यह जानकारी देते हुए बताया कि हरियाणा पुलिस ने राज्य में सख्त लाकॅडाउन सुनिश्चित करने के लिए व्यापक प्रबंध किए हैं। प्रदेश में स्थापित किए गए 461 अस्थायी आश्रयों में से किसी एक में स्थानांतरित होने के लिए राजी करके प्रवासी मजदूरों के पलायन को भी रोका गया है जहां एनजीओ, सामाजिक कार्यकर्ताओं और स्थानीय प्रशासन की मदद से भोजन भी उपलब्ध करवाया जा रहा है। विभिन्न नाकों पर तैनात पुलिस अधिकारी और जवान लोगों विशेष रूप से गरीबों, बेघरों, जरूरतमंदों और बीमार लोगों को हर संभव सहायता उपलब्ध करवा रहे हैं।
उन्होंने कहा कि डीजीपी हरियाणा  मनोज यादव ने भी इस संकट की घड़ी में पुलिस जवानों द्वारा पूरे राज्य में गरीबों और जरूरतमंद लोगों को भोजन व अन्य राहत सामग्री वितरित करने पर प्रसन्नता व्यक्त की है।
उन्होंने कहा कि सरकार के निर्देशानुसार, उद्योगपतियों और कारखाने के मालिकों को भी सलाह दी गई है कि वे संकट के इन हालातों में अपने कर्मचारियों की हर तरह की मदद करें।
नवदीप  विर्क ने कहा कि राज्य में लॉकडाउन के दौरान, आवश्यक और आपातकालीन सेवाओं को छोड़कर सभी सार्वजनिक गतिविधियों पर प्रतिबंध है। हालांकि राज्य और राष्ट्रीय राजमार्गों पर वाहनों में कार्गो आवाजाही को अनुमति है। इसे ध्यान में रखते हुए, लोगों को अनावश्यक रूप से सड़क पर घूमने से बचना चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि लॉकडाउन के उल्लंघन के संबंध में अबतक 610 एफआईआर दर्ज कर 745 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है। 3407 वाहनों को भी जब्त किया गया है।
उन्होंने नागरिकों से अपील की कि वे सरकार और पुलिस के निर्देशों की पूर्णतः अनुपालना सुनिंश्चित करते हुए लॉकडाउन के दौरान अपने घरों के अंदर रहें। किसी आपात स्थिति में बाहर जाते समय नागरिकों को सोशल डिस्टेंसिंग सहित सभी नियमों का पालन करना चाहिए। उन्होंने नागरिकों से अफवाहों को नजरअंदाज कर पुलिस का सहयोग करने का आग्रह करते हुए कहा कि वे भी अपने आसपास के एरिया में गरीब व जरूरतमंदों की सहायता के लिए आगे आएं।

About admin

Check Also

विश्व गतका फेडरेशन द्वारा अंतरराष्ट्रीय गतका दिवस 21 जून को

 इसमाक अवार्डों के लिए होंगे ऑनलाइन गतका मुकाबले विजेताओं को इनामों और ट्रॉफियों के साथ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share