Sunday , January 24 2021
Breaking News
Home / Breaking News / प्रधानमंत्री ने की मन की बात , डाॅक्टरो को सलाम किया

प्रधानमंत्री ने की मन की बात , डाॅक्टरो को सलाम किया

नई दिल्ली  ।

प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना  के ख़िलाफ़ ये युद्ध अभूतपूर्व भी और चुनौतीपूर्ण भी है  । कोरोना वायरस महामारी को लेकर देश में जारी लॉकडाउन के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम मन की बात को संबोधित किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘मन की बात’ के 63वें संस्करण के तहत लोगों को संबोधित किया।पीएम मोदी ने अपने संबोधन की शुरुआत में लोगों से असुविधा के लिए क्षमा मांगी, लेकिन लॉकडाउन को जरूरी बताया । पीएम मोदी ने कहा कि मैं इन कठोर फैसलों के लिए माफी चाहता हूं, जिन्होंने आपके जीवन में कठिनाइयों को जन्म दिया है, खासकर गरीब लोगों को इसने ज्यादा परेशान किया है। मुझे पता है कि आप में से कुछ मुझसे भी नाराज होंगे। लेकिन इस लड़ाई को जीतने के लिए इन कठोर उपायों की आवश्यकता थी।मैं एक बार और आपको बता दूं, मैंने आपको बाहर निकलने के लिए मना किया है लेकिन, आपको अपने भीतर झांकने के लिए अवसर भी दिया है। ये मौका है, बाहर मत निकलो, लेकिन, अपने अन्दर प्रवेश करो, अपने आप को जानने का प्रयास करो । कई लक्षण नहीं होने के बावजूद संगरोध में चले गए हैं। मैं उनकी जिम्मेदारी की भावना के लिए उनकी सराहना करता हूं । आपने देखा होगा कि सरकार ने बैंकिंग सेवाओं को खुला रखा है। और बैंकिंग क्षेत्र में काम करने वाले लोग आपकी सेवा में हैं- पूरी प्रतिबद्धता और समर्पण के साथ- इस लड़ाई में हमारा नेतृत्व करते हैं । दुनिया में हर नर्स के समर्पण और सेवा की भावना की सराहना करता हूं ।  इस तरह के समय में सावधानियां सबसे महत्वपूर्ण हैं और मैं लोगों से घर के अंदर रहने का आग्रह करता हूं ।  श्री अशोक कपूर की पीएम मोदी के साथ टेलीफोन पर हुई बातचीत में कहा कि मैं आगरा में अधिकारियों और कर्मचारियों का बहुत आभारी हूं। मैं दिल्ली में अस्पताल अधिकारियों के लिए समान रूप से आभारी हूं।डॉक्टर मुस्तैद थे।हमारे इलाज के दौरान हमारे पास अच्छे कमरे थे। श्री रामगम्पा तेजा जो एक IT प्रोफेशनल हैं जिन्होंने कोरोना को सफलतापूर्वक हराया है,उन्होंने अपने अनुभव को प्रधानमंत्री के साथ साझा करते हुए कहा कि यह जानने पर कि मैं COVID-19 पॉजिटिव था, मैं तुरंत क्वारंटाइन में चला गया। ठीक होने के बाद भी, मैं कुछ दिनों के लिए अकेला रहना पसंद करता हूं। मैं अब नियमित रूप से अपने हाथ धोता हूं।

– मैं समझता हूं कि कोई भी जान-बूझकर नियमों को तोड़ना नहीं चाहता है, लेकिन कुछ लोग हैं जो ऐसा कर रहे हैं। उनके लिए, मैं कहूंगा कि यदि वे इसके उलटफेर इसका पालन नहीं करते हैं, तो खुद को कोरोनवायरस से संक्रमित हो सकते हैं  । कई योद्धा ऐसे हैं जो अपने घरों के अंगर नहीं बल्कि अपने घरों के बाहर Coronavirus लड़ रहे हैं। ये हमारी अग्रिम पंक्ति के सैनिक-विशेषकर हमारे भाई-बहन नर्स, डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ के रूप में ड्यूटी पर हैं ।

About admin

Check Also

खेती कानूनों के विरुद्ध संघर्ष में शहीद हुए 162 किसानों को केंद्र 25-25 लाख रुपए का मुआवज़ा दे: पंजाबी कल्चरल कौंसल

चंडीगढ़  (रफ़्तार न्यूज़ ब्यूरो):  पंजाबी कल्चरल कौंसिल ने केंद्र सरकार को चि_ी लिखकर माँग की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share