Home / Breaking News / हरियाणा में डीएड/डीएलएड विशेष अवसर परीक्षा का आयोजन 20 जून, 2019 को

हरियाणा में डीएड/डीएलएड विशेष अवसर परीक्षा का आयोजन 20 जून, 2019 को

हरियाणा विद्यालय विद्यालय शिक्षा बोर्ड, भिवानी के स्वर्ण जयंती वर्ष में डीएड/डीएलएड विशेष अवसर परीक्षा जून-2019 का आयोजन 20 जून, 2019 को करवाया जा रहा है। पात्र छात्र-अध्यापकों के प्रवेश-पत्र (एडमिट कार्ड) 13 जून, 2019 से बोर्ड की अधिकारिक वैबसाईट  www.bseh.org.in  पर उपलब्ध होंगे।

 

इस सम्बन्ध में जानकारी देते हुए बोर्ड प्रवक्ता ने बताया कि बोर्ड प्रदेश में शिक्षा के स्तर को सुधारने के लिए प्रतिबद्ध है। इसके फलस्वरूप छात्र-अध्यापक प्रवेश-पत्र पर दर्शाए गए महत्वपूर्ण निर्देशों को ध्यान से पढक़र/समझकर उनका पालन करना सुनिश्चित करेंगे। छात्र-अध्यापक परीक्षा आरम्भ होने से आधे घण्टे पूर्व परीक्षा केंद्र पर पहुंचना सुनिश्चित करें ताकि अनिवार्य औपचारिकताएं समय पर पूरी हो सके।

 

वैध आई.डी. साथ लाना होगा अनिवार्य नहीं तो परीक्षा केंद्र पर बैठने की नहीं होगी अनुमति…..


प्रवक्ता ने बताया कि बोर्ड अध्यक्ष ने कहा है कि छात्र-अध्यापक इस बारे विशेष ध्यान रखें कि प्रवेश-पत्र का प्रिन्ट रंगीन फोटो के साथ लिया जाना अनिवार्य है। छात्र-अध्यापक अपने प्रवेश-पत्र पर स्पष्ट नवीनतम रंगीन पासपोर्ट साईज फोटो लगाकर व स्पष्ट हस्ताक्षर करके सम्बन्धित शिक्षण संस्थान के मुखिया द्वारा प्रमाणित करवाना सुनिश्चित करें। उन्होंने बताया कि यदि कोई शिक्षण संस्थान किसी कारणवश बंद हो गया है तो वह छात्र-अध्यापक अपना सत्यापन जिला शैक्षिक और प्रशिक्षण संस्थान (डाईट) से करवाएं तथा परीक्षा वाले दिन पहचान-पत्र के तौर पर आधार कार्ड या अपनी अन्य कोई वैध आई.डी. साथ लाना अनिवार्य है अन्यथा परीक्षा केंद्र पर बैठने की अनुमति नहीं होगी।

 


प्रवक्ता ने बताया कि बोर्ड अध्यक्ष एवं सचिव ने परीक्षा केंद्रों पर नियुक्त सभी पर्यवेक्षकों को परीक्षा से सम्बन्धित को निर्देश दिए हैं कि नकल रहित परीक्षा संचालन हेतु सभी छात्र-अध्यापकों की भली-भांति जांच करके परीक्षा केंद्र में प्रवेश की अनुमति प्रदान करें। उन्होंने सभी छात्र-अध्यापकों को आगाह किया है कि यदि कोई भी छात्र-अध्यापक के पास अनुचित साधन प्रयोग से सम्बन्धित सामग्री पाई जाती है तो संलिप्त छात्र-अध्यापक की पिछली डिग्री भी रद्द कर दी जायेगी।

 


उन्होंने कहा कि इस परीक्षा को कदाचार-मुक्त बनाना है तथा परीक्षा में अनुचित साधनों का प्रयोग करने वालों तथा सहायता प्रदान करने वालों के खिलाफ ‘शून्य सहनशीलता’ की नीति अमल में लाई जाएगी। उन्होंने समाज के सभी वर्गों से इस परीक्षा की पावनता व विश्वसनीयता बनाए रखने में बोर्ड को सक्रिय सहयोग देने की पुरज़ोर अपील की है। उन्होंने कहा कि परीक्षार्थी अपनी पाठ्यपुस्तकों को पढ़े और परीक्षा दें।

About admin

Check Also

PM Narendra Modi आज करेंगे बैठक, Vaccine निर्माताओं के साथ होगी बातचीत

(रफ़्तार न्यूज़ ब्यूरो) –देश में कोरोना रिटर्न की बेकाबू रफ्तार जारी है. 1 दिन में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share