Saturday , September 26 2020
Breaking News
Home / Breaking News / आतंकी मसूद अजहर का सिर लाओ- एक करोड़ ले जाओ – किसने कहा

आतंकी मसूद अजहर का सिर लाओ- एक करोड़ ले जाओ – किसने कहा

मसूद अजहर का सिर लाओ….. एक करोड़ ले जाओ 

पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुये देश के जवानों के बाद देश का गुस्सा अलग-अलग तरीके से निकलकर बाहर आ रहा है। पूरे देश में प्रदर्शन हो रहे हैं, पाकिस्तान और आतंकवादी मसूद अजहर के पुतले फूंके जा रहे हैं। वहीं तकरीबन हर शहर में शहीदों को श्रद्धांजलि दी जा रही है। इस कड़ी में एक बाबा ने एक बड़ा एलान कर दिया है। बाबा ने कहा कि जो भी सैनिक आतंकी मसूद अजहर का सिर लेकर आयेगा वो उसे एक करोड़ रूपया देंगे। ये बाबा हैं सिद्धपीठ श्री कालापीर मठ कोथ कला के पीठाधीश्वर महंत शुक्राईनाथ योगी। शुक्राईनाथ ने कहा कि उस आतंकी की वजह से हमारे देश के सैनिकों की जान गई है, इसलिये उसे माफ नहीं किया जा सकता और उसकी सजा भी बड़ी होनी चाहिये।

शुक्राईनाथ ने हिसार में कहा कि इस वक्त मठ और मंदिरों में जमा पैसों की आज सेना को ज्यादा आवश्यकता है इसलिए सारा पैसा वहां दे देना चाहिये। शुक्राईनाथ ने कहा कि सरकार अगर उसे आरडीएक्स में बांधकर पाकिस्तान को बर्बाद करने की अनुमति देती है तो वो तैयार हैं। बाबा के मुताबिक राष्ट्र साधना में बाधक बनने वाले किसी भी गद्दार को जिंदा रहने का कोई अधिकार नहीं है। बाबा के मुताबिक देश के सभी धनाढ्य मठ और मंदिरों को चाहिए कि वो अब राष्ट्रहित में तन मन धन से आगे आकर आहुति दें।

आतंकी मसूद अजहर जैश-ए-मोहम्मद के सरगना हैं और पाकिस्तान में पनाह लिये हुये हैं। पुलवामा हमले के तुरंत बाद जिस आत्मघाती आतंकी का वीडियो सामने आया वो कह रहा है कि ये जैश-ए-मोहम्मद ने किया है। वहीं हमले के तुरंत बाद जैश-ए-मोहम्मद ने पुलवामा आत्मघाती हमले की जिम्मेदारी ली। देश के हर नागरिक में मसूद अजहर के खिलाफ बहुत गुस्सा है। अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में आतंकी मसूद अजहर को छोड़ा गया था। अब एक बार फिर भारत का टारगेट आतंकी मसूद अजहर को पकड़ना है। दरअसल पाकिस्तान में बैठे आतंकवादी कश्मीर के युवाओं को बरगला कर जेहाद के नाम पर उन्हें आतंकवाद की ओर मोड़ रहे हैं।

Report By- रुद्रा राजेश कुण्डू

About admin

Check Also

CAG: राफेल डील में दसॉ एविएशन ने अभी तक नहीं किया ऑफसेट दायित्वों का पालन

दिल्ली।(ब्यूरो) नियंत्रक व महालेखा परीक्षक ने ऑफसेट से जुड़ी नीतियों को लेकर रक्षा मंत्रालय की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share