Breaking News






Home / Breaking News / कैप्टन सरकार का दूसरा बजट सत्र मंगलवार से शुरू – विपक्ष की सरकार को घेरने की पूरी तैयारी

कैप्टन सरकार का दूसरा बजट सत्र मंगलवार से शुरू – विपक्ष की सरकार को घेरने की पूरी तैयारी

 

पंजाब में कैप्टन सरकार का दूसरा बजट सेशन मंगलवार यानि आज से शुरू है। इस बजट सेशन में विपक्ष के निशाने पर कैप्टन सरकार रहेगी। विपक्ष इस बात को लेकर घेरेगा कि जो वादे कर कैप्टन सरकार सत्ता में आई थी वो वादे कहां हैं। सबसे बड़ा वादा युवाओं को स्मार्टफोन देने का है जिस पर सरकार की ओर से हालांकि कहा गया था कि जल्द ही ये वादा पूरा किया जायेगा। इसके लिये सरकार ने मोबाईल कंपनी से भी बातचीत कर ली है लेकिन विपक्ष ये आरोप लगाता है कि सरकार खोखले वादे करती है। हालांकि सरकार के सामने बड़ा संकट आर्थिक संकट है। पंजाब सरकार पर कर्ज ही इतना है कि हर महीेने करीब 290 करोड़ रूपया ब्याज में ही देना पड़ता है। ऐसे में सरकार वादे कैसे पूरे करे जब कर्ज के मुकाबले कमाई कम है और पुराना लोन चुकता होता नहीं कि नया लेना पड़ जाता है।

 

पंजाब सरकार की कोशिश तो बहुत है कि माली हालत को सुधारा जाये और इसके लिये नई नई स्कीम भी कैप्टन सरकार लेकर आई। माली हालत सुधारने के लिए सरकार ने पिछले बजट में 150 करोड़ का प्रोफेशनल टैक्स भी लगाया लेकिन उससे भी हालत में कोई फर्क नहीं पड़ा। इस बजट में सरकार पर पुराने वादे और स्कीमें पूरी करने का दबाव रहेगा। छठे वेतन आयोग की सिफारिशों को लागू करने के लिए भी करीब 2000 करोड़ रुपए चाहिए। साल 2014-15 में वित्तीय घाटा 10842 करोड़ था जो 2017-18 में 52840 करोड़ हो चुका है। सरकार की सबसे बड़ी दिक्कत यही है कि कर्ज को कैसे उतारा जाये।

 

इस बजट सत्र में विपक्ष पूरी तरह से तैयार है कि सरकार को कैसे घेरना है। विपक्ष में सुखपाल सिहं खैरा जो कि आम आदमी पार्टी से अलग होकर अपनी पार्टी बना चुके हैं वो अपनी पूरी तैयारी के साथ आयेंगे हालांकि देखना होगा कि उन्हें विधानसभा में बोलने का कितना समय मिलता है। वहीं अकाली दल की ओर से सुखबीर सिंह बादल और विक्रम मजीठिया सरकार पर हमला बोलेंगे तो वहीं आम आदमी पार्टी की ओर से विपक्षे के नेता चीमा और अमन अरोड़ा अपने सवालों के साथ तैयार होंगे। वहीं लोक इंसाफ पार्टी के सिमरजीत सिंह बैंस भी विधानसभा में सरकार पर कई मुद्दों को लेकर दबाव बनाने की कोशिश करेंगे। देखना होगा कि विपक्ष के हमलों का जवाब इस बार कैप्टन सरकार के मंत्रियों की ओर से कैसे दिया जाता है। खासकर नवजोत सिंह सिद्दू पर नजर रहेगी क्योंकि उनको हर सत्र मे बोलने का खुला मौका मिलता है।

 

 

 

 

About admin

Check Also

नवजोत सिद्धू बने पंजाब कांग्रेस के नये प्रधान, 4 कार्यकारी प्रधान होंगे, रफतार न्यूज की ख़बर पर एक बार फिर से मोहर

दिल्ली, 18 जुलाई (रफतार न्यूज ब्यूरो)ः रफतार न्यूज की ख़बर पर एक बार फिर से …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share