Wednesday , January 27 2021
Breaking News
Home / Breaking News / आजादी के बाद उज्जवल हुआ सोनिया गांधी का गांव

आजादी के बाद उज्जवल हुआ सोनिया गांधी का गांव

आजादी के बाद से अब तक जो गांव अंधेरे की गुमनामी में जी रहा हो उसे बिजली की रौशनी मिल जाये तो उसके लिये नए जीवन की शुरूआत से कम नही होता। जी हां, रायबरेली मुख्यालय से महज 5 किलोमीटर दूर स्थित पुराने भुएमऊ गांव के लोग आजादी के बाद से अब तक अंधेरे में जीने के लिये मजबूर थे जबकि कांग्रेस की पूर्व अध्यक्षा व रायबरेली की सांसद सोनिया गांधी का निवास स्थान भी इसी गाँव मे बना है। अब केंद्र सरकार की सौभाग्य योजना के तहत एलएंडटी कम्पनी की ओर से गांव का विधुतीकरण कराया गया है।
सौभाग्य योजना के अंतर्गत राही ब्लाक के भुएमऊ गांव मे विद्युतीकरण का काम पूरा हो गया है जिसका लोकार्पण अधिशासी अभियंता द्वितीय इंजी० घनश्याम व एल एंड टी कम्पनी के एरिया ए ए सिद्दीकी ने किया। इस मजरे की आबादी लगभग 500 है। इस मजरे के विद्युतीकरण में 01 नग 25 केवीए के परिवर्तक के साथ एल टी लाइन बनाकर 25 उपभोक्ताओं को नि:शुल्क कनेक्शन दिये गए। विद्युतीकरण मे लागत लगभग रु 15 लाख आया।
एल एंड टी कंपनी को गांव में विद्युतीकरण कराते समय कई समस्याओं का भी सामना करना पड़ा परंतु प्रधानमंत्री की महत्वाकांक्षी योजना को पूर्ण करने में एल एंड टी कंपनी ने महती भूमिका निभाई। गांव में बिजली आने से ग्रामीणों के चेहरे पर खुशी साफ देखी जा सकती है । ग्रामीण राम चन्द्र ने खुशी जाहिर करते हुए कहा अब हमारे बच्चे अच्छे से पढ़ लिख भी पाएंगे  अभी तक तो शाम होते ही सो जाते थे। सभी ग्रामीणों ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व एल एंड टी कंपनी के एरिया मैनेजर ए ए सिद्दीकी सहित पूरी टीम को धन्यवाद दिया।फिलहाल विद्युतीकरण से ग्रामीणों को एक नया जीवन मिला है अब गांववासी अच्छे से जीवन यापन भी कर सकते है।
इस अवसर पर अधिशासी अभियंता इंजी० घनश्याम, जेई शम्भूनाथ, कार्यदायी संस्था एल एण्ड टी के एरिया मैनेजर ए०ए०सिद्दीकी, मिशन मैनेजर आदित्य त्रिपाठी , श्रवन प्रजापति, मनोज कुमार, उपेंद्र सिंह,  ग्राम प्रधान सहित साथ सैकड़ों ग्रामवासी उपस्थित रहे।
Report By- Ravinder singh

About admin

Check Also

VIOLENCE BY CERTAIN ELEMENTS IN DELHI UNACCEPTABLE, SAYS PUNJAB CM, URGES FARMERS TO RETURN TO BORDERS

  Chandigarh (Raftaar News Bureau) Terming as unacceptable the violence perpetrated by certain elements during …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share