Tuesday , September 29 2020
Breaking News
Home / Breaking News / क्या इस तरह के टोटके जितायेंगे जींद का चुनाव

क्या इस तरह के टोटके जितायेंगे जींद का चुनाव

 

क्या आपने कभी नेताओं को चुनाव से पहले या बाद में मोटरसाईकिल या बस की सवारी करते देखा है। ये बड़े – बड़े नेता बड़ी-बड़ी गाड़ियों में घूमते हैं। खासकर इन बड़े नेताओं के पास लैंड क्रूजर गाड़ियां तो आम देखी जा सकती हैं। मतलब जैसे आम आदमी के पास मोटरसाईकिल होता है ना ऐसे ही इन नेताओं के पास लैंज क्रूजर होती है। एक बात और खास, ये नेता लोग बाद में तो आम आदमी को देखकर जल्दी से ब्रेक भी नहीं मारते।  हां चुनाव में बड़े – बड़े नेता आम आदमी जरूर बन जाते हैं। बिल्कुल आम आदमी की तरह दिखते हैं,चलते हैं, खाना खाते हैं, चाय पीते हैं

 

जींद के चुनाव में कुछ ऐसा ही हो रहा है। लैंड क्रूजर गाड़ियों में सफर करने वाले नेता मोटरसाईकिल और बस में नजर आ रहे हैं। चुनाव में सभी पार्टियों ने जोर ऐसे लगा रखा है जैसे ये पांच साल बाद होने वाला चुनाव हो। ये चुनाव इसलिये भी दिलचस्प हो गया क्योंकि इसमें कांग्रेस की ओर से रणदीप सुरजेवाला और जेजेपी की ओर से दिग्विजय चौटाला मैदान में हैं। जब कोई चुनाव होता है तो उम्मीदवार तरह-तरह के टोटके अपनाते हैं। लोगों को अपने पक्ष में करने के लिये ऐसा दिखाया जाता है कि हम तो पूरे देसी हैं आपकी तरह, मतलब हम भी आम आदमी की तरह हैं।

 

जींद के चुनाव में भी आपने कई ऐसे फोटोज़ देखे होंगे जिसमें उम्मीदवार या नेता मोटरसाईकिल पर प्रचार कर रहे हैं। कोई बस में सफर कर रहा है वो भी रोडवेज की। हर रोज जो तस्वीरें जींद से आ रही हैं उसमें आपने देखा होगा कि रणदीप सुरजेवाला मोटरसाईकिल पर कई बार नजर आये हैं। कभी उनके साथ कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर होते हैं तो कभी दीपेंदर हुड्डा। वो गलियों में घूम-घूम कर मोटरसाईकिल पर प्रचार कर रहे हैं।

 

वहीं बात जेजेपी के नेता और सांसद दुष्यंत चौटाला की करें तो वो हरियाणा रोडवेज की बस में सफर करते दिखाई दिये। उन्होनें बस में प्रचार करने ता तरीका निकाला। बस में ही लोगों से जींद चुनाव के बारे में बात की। जेजेपी के उम्मीदवार दिग्विजय चौटाला भी मोटरसाईकिल पर प्रचार करते नजर आये।

 

देश का मतदाता बड़ा भोला है। थोड़े दिन उम्मीदवार ने उनके बीच जाकर आम आदमी की तरह प्रचार क्या कर लिया तो उसे अपना मानने लग जाता है। कुछ समय बाद फिर ठगा-ठगा सा महसूस करने लगता है। उसको लगता है कि चुनाव में जो वो कर रहे थे वो तो दिखावा था। जींद के चुनाव के बाद भी वैसा ही होने वाला है। मोटरसाईकिल और बस में सफर करने वाले नेता फिर लैंड क्रूजर में नजर आयेंगे और वोटर सिर्फ सड़क के किनारे खड़ा होकर उनकी गाड़ियों की स्पीड मापता दिखाई देगा।

 

The मसला…………..

 

About admin

Check Also

ਮੁੱਖ ਸਕੱਤਰ ਵੱਲੋਂ ਕੋਵਿਡ ਮਰੀਜ਼ਾਂ ਲਈ ਬਿਹਤਰੀਨ ਸਿਹਤ ਸਹੂਲਤਾਂ ਯਕੀਨੀ ਬਣਾਉਣ ਵਾਸਤੇ ਡਿਪਟੀ ਕਮਿਸ਼ਨਰਾਂ ਨੂੰ ਹਸਪਤਾਲਾਂ ਦੇ ਦੌਰੇ ਵਧਾਉਣ ਦੇ ਨਿਰਦੇਸ਼

ਚੰਡੀਗੜ, 26 ਸਤੰਬਰ (ਸ਼ਿਵ ਨਾਰਾਇਣ ਜਾਂਗੜਾ) :         ਪੰਜਾਬ ਦੇ ਮੁੱਖ ਸਕੱਤਰ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share